Emission Scandal: फोक्सवैगन 3.23 लाख कारें भारत में करेगी रीकॉल

0
295

volkswagenफोक्सवैगन Emission Scandal मामले में भारत सरकार की जांच में ई189 डीजल इंजन से लैस मॉडलों में Defeat Device यानि एमिशन टेस्टिंग को चकमा देने वाला सॉफ्टवेयर लगा होने की बात सामने आने के बाद जर्मन कार कम्पनी Volkswagen अमेरिका और अन्य देशों की तरह भारत में 3.23 लाख गाडिय़ों को रीकॉल करेगी।
Emission Scandal की जांच से जुड़े भारत सरकार के एक अधिकारी के अनुसार Volkswagen India उन ई189 डीजल इंजन वाली 3.23 लाख गाडिय़ों को अपने स्तर पर रीकॉल करेगी जिनमें Defeat Device लगी है।
देश की प्रमुख सर्टिफिकेशन और ऑटोमोटिव रिसर्च एजेंसी एआरएआई की Emission Scandal जांच रिपोर्ट सामने आने के बाद भारत सरकार और कम्पनी के अधिकारियों के बीच बैठक हुई थी।
एआरएआई यानि ऑटोमोटिव रिसर्च एसोसियेशन ऑफ इंडिया ने अपनी Emission Scandal जांच रिपोर्ट में कहा था कि Volkswagen की ई189 डीजल इंजन वाली मेड इन इंडिया कारों में खास सॉफ्टवेयर लगा है जिससे रोड ड्राइविंग की स्थिति में गाडिय़ां तय मानक से ज्यादा नाइट्रोजन ऑक्साइड का उत्सर्जन करती हैं।
मीटिंग में मौजूद कम्पनी के अधिकारियों ने कहा है कि इस बारे में एक बयान जारी किया जायेगा।
क्या है डिफीट डिवाइस: Emission Scandal की अमेरिका में ईपीए की जांच में सामने आया था कि Volkswagen की कुछ गाडिय़ों में एक खास इंटेलीजेंट सॉफ्टवेयर लगा है जो लैब टेस्टिंग के दौरान इंजन के एमिशन कंट्रोल सिस्टम को एक्टिव कर देता है जिससे उत्सर्जन के आंकड़े तय मानकों के हिसाब से आते हैं। लेकिन जब यही गाड़ी सडक़ पर चलती है तो सॉफ्टवेयर एमिशन कंट्रोल सिस्टम को ऑटोमेटिक तरीके से स्विच ऑफ कर देता है जिससे सडक़ पर इन गाडिय़ों का एमिशन लैब रिपोर्ट से कहीं ज्यादा होता है।
Emission Scandal मामला सामने आने के बाद फोक्सवैगन ने कहा था कि दुनियाभर में बिकीं करीब 1 करोड़ दस लाख गाडिय़ों में यह सॉफ्टवेयर लगा है। इस मामले में दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी कार कम्पनी फोक्सवैगन की फजीहत होने के चलते सीईओ मार्टिन विंटरकॉर्न को इस्तीफा देना पड़ गया था। अमेरिका में अभी जांच चल रही है और कम्पनी पर 18 अरब डॉलर का जुर्माना लगाया जा सकता है। पिछले दिनों दक्षिण कोरिया सरकार ने फोक्सवैगन को 1.25 लाख गाडिय़ों को रीकॉल करने और 1.23 करोड़ डॉलर का जुर्माना चुकाने का आदेश दिया है।
फोक्सवैगन ग्रुप भारत में Audi, Skoda और Volkswagen ब्रांड्स के तहत गाडिय़ां बेचता है और इन ब्रांड्स में इंजन साझा किये जाते हैं। ऐसे में रीकॉल की जाने वाली 3.23 लाख गाडिय़ों में इन तीनों ब्रांड्स के मॉडल शामिल हैं।
पिछले महिने पेश की गई एआरएआई की रिपोर्ट में फोक्सवैगन जेटा, स्कोडा ऑक्टाविया, ऑडी ए4 और ए6 के ऑनरोड एमिशन और लैब रिपोर्ट में बड़ा अंतर पाये जाने की बात कहे जाने पर सरकार ने कम्पनी को अपना मत रखने के लिये नोटिस जारी किया था।Image Credit:Ibtimes.com