Emission Scandal: फोक्सवैगन के सीईओ मार्टिन विंटरकॉर्न का इस्तीफा

0
540

Volkswagen Logoसमय बहुत तेजी से बदलता है। मार्टिन विंटरकॉर्न से विवाद के चलते फोक्सवैगन के चेअरमैन फर्डिनेंड पीश को अप्रेल में इस्तीफा देना पड़ा था। यूरोप की सबसे बड़ी कम्पनी फोक्सवैगन एजी के फाउंडर के पोते पीश से विवाद में भले जीत विंटरकॉर्न की हुई हो लेकिन 5 महिने पूरे भी नहीं हुये कि उन्हें खुद Emission Scandal के चलते फोक्सवैगन एजी को अलविदा कहना पड़ गया। टोयोटा को दुनिया की सबसे बड़ी ऑटोमेकर के मुकाम से बेदखल करने के बहुत नजदीक पहुंचने वाली फोक्सवैगन इन दिनों अमेरिका में पैदा हुये Emission Scandal संकट से निपटने के लिये जूझ रही है।
पिछले सप्ताह अमेरिका की ग्रीन रेगुलेटर ईपीए ने कहा था कि कम्पनी फोक्सवैगन ने एमिशन टेस्टिंग को चकमा देने के लिये फोक्सवैगन और ऑडी ब्रांड की डीजल कारों में खास सॉफ्टवेयर Defeat Device लगाये। इस सॉफ्टवेयर के चलते टेस्टिंग के समय तो कार का एमिशन कंट्रोल सिस्टम एक्टिव हो जाता और गाड़ी मानकों पर खरी पाई जाती लेकिन आम ड्राइविंग के दौरान यह बंद रहता। कम्पनी पर आरोप है कि इसने एमिशन टेस्ट में पास होने के लिये गलत रास्ते का इस्तेमाल कर ग्राहकों और रेगुलेटर के साथ धोखाधड़ी की है।
खबर है कि अमेरिका के अलावा इटली, फ्रांस और दक्षिण कोरिया तक Emission Scandal का यह मामला पहुंच चुका है। भारत सरकार के अधिकारियों ने भी कहा है कि वे इस पर नजर रखे हुये हैं और जरूरत होने पर फोक्सवैगन इंडिया की फोक्सवैगन और ऑडी कारों की एमिशन टेस्टिंग करा सकते हैं।
Emission Scandal से निपटने और हर्जाने के लिये कम्पनी ने 6.5 अरब यूरो का प्रावधान किया है। दूसरी ओर माना जा रहा है कि फोक्सवैगन पर इस धोखाधड़ी के लिये 18 अरब डॉलर का जुर्माना लगाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here