GST: जुलाई में एसयूवी और बड़ी कार पर हो सकती है 2 लाख तक की बचत

0
389

GST rates for car, suv, scooter, truck, tractor1 जुलाई से GST लागू होना तय हो चुका है। 3 जून को जीएसटी काउंसिल की बैठक में थोड़े बहुत एडजस्टमेंट का ही काम होगा। GST और सैस मिलाकर स्मॉल कारों पर बमुश्किल 1 परसेंट का फायदा होगा लेकिन मिड, लार्ज, लक्जरी और एसयूवी सैगमेंट की गाडिय़ों पर टेक्स में अभी के मुकाबले 4 से 11 परसेंट तक की कमी आयेगी। ऐसे में आप यदि एक महिने ठहर जायें तो अच्छी-खासी बचत हो सकती है।

कम्पनियों को भी कंज्यूमर सेंटिमेंट का अहसास है इसलिये प्राइस एडजस्ट करने और डिस्काउंट का दौर शुरू हो चुका है। लक्जरी सैगमेंंट की चारों बड़ी कम्पनियां बीएमडब्ल्यू, मर्सीडीज, ऑडी और जेएलआर अपने भारत में बने मॉडलों की प्राइस में 10 लाख रुपये तक की कटौती कर चुकी हैं। अब Ford India ने अपने तीनों मॉडलों Figo, Aspire और Ecosport की प्राइस में 30 हजार रुपये तक की कमी की है। इसी तरह Isuzu ने भी 1.5 लाख रुपये की कटौती करने की जानकारी दी है। अगले कुछ दिनों में मास सैगमेंट की और कई कम्पनियां GST सिस्टम में सस्ते हो जाने वाले मॉडलों पर प्राइस कट की घोषणा कर सकती हैं।

कितनी बचत: पेट्रोल की स्मॉल कारों पर एक्साइज़ और वैट मिलाकर करीब 30 परसेंट टेक्स लगता है लेकिन इन पर 28 परसेंट GST और 1 परसेंट सैस लगाया गया है यानि इन पर 1 परसेंट की मामूली बचत होगी।

वहीं डीजल की स्मॉल कार पर अभी 32 परसेंट टेक्स है जो जीएसटी सिस्टम में घटकर 31 परसेंट रह जायेगा यानि इन पर भी 1 परसेंट टेक्स कम हो जायेगा।

लेकिन 1500 सीसी से छोटे इंजन वाली गाडिय़ों पर अभी एक्साइज व वैट मिलाकर करीब 47 परसेंट टेक्स बनता है जो GST सिस्टम में घटकर 43 परसेंट रह जायेगा यानि सीधे 4 परसेंट की बचत होगी। जो 25 से 50 हजार रुपये के बीच होगी।

1500 सीसी से बड़े इंजन वाली कारों पर अभी 51 परसेंट टेक्स लगता है जो GST सिस्टम में घटकर 43 परसेंट रह जायेगा यानि 8 परसेंट की कमी आयेगी और इन कारों पर आपको 1 लाख रुपये तक की बचत हो सकती है।

जीएसटी सिस्टम लागू होने का सबसे बड़ा फायदा एसयूवी के चाहने वालों को होगा। 1500 सीसी से बड़े इंजन और 170 मिमी से ज्यादा ग्राउंड क्लीयरेंस वाली Mahindra Scorpio जैसी एसयूवी गाडिय़ों पर अभी 54 परसेंट टेक्स लगता है जो GST सिस्टम में 28+15 यानि 43 परसेंट रह जायेगा यानि सीधे-सीधे 11 परसेंट की बचत होने की उम्मीद है।

टू-व्हीलर और कमर्शियल वेहीकल्स पर टेक्स 1 परसेंट घट रहा है जबकि ट्रेक्टर को पहले की तरह 12 परसेंट जीएसटी और शून्य सैस के स्लैब मेें रखा गया है।

लेकिन: यदि जीएसटी सिस्टम में हो रही टेक्स बचत का फायदा ऑटो कम्पनियां कस्टमर को देती हैं तो आपको नई गाड़ी खरीदने पर मास सैगमेंट की गाडिय़ों पर 2 लाख रुपये तक की बचत होनी चाहिये। लेकिन हो सकता है कम्पनियां पूरे के बजाय इसका कुछ फायदा ही आपको दें। संभावना यह भी जताई जा रही है कि कुछ कार कम्पनियां GST लागू होने के बाद जुलाई में इनपुट लागत बढऩे के बहाने कीमतें बढ़ा सकती हैं।

Hyundai India के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट राकेश श्रीवास्तव ने से ईटी ऑटो में छपे एक बयान में कहा है कि कॉम्पेक्ट कारें 1 से 3 परसेंट तक महंगी हो जायेंगी। वहीं मारुति ने कहा है कि करीब-करीब पहले जितनी ही रहेंगी।

हालांकि लार्ज, लक्जरी कार और एसयूवी की प्राइस में कमी आना तय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here