Road Accident: घरेलू महिला के पति को क्यों मिला 32 लाख का Insurance Claim?

0
571

road accident insurance claimमोटर एक्सीडेंट्स क्लेम्स ट्रिब्यूनल ने Road Accident के मामले में Insurance Claim का जो फैसला सुनाया है वो नज़ीर बन सकता है। ट्रिब्यूनल ने कहा कि भले ही आदमी अपनी वाइफ पर वित्तीय रूप से निर्भर नहीं हो लेकिन फिर भी वह घर के काम के लिये उस पर निर्भर रहता है इस तरह वह वाइफ की एक्सीडेंट में मौत की स्थिति में Insurance Claim का हकदार होना चाहिये।

ट्रिब्यूनल ने बजाज आलियांज़ जनरल इंश्योरेंस कम्पनी और कार के मालिक सुनील राणे को 32 लाख रुपये का मुआवजा और ब्याज देने फैसला सुनाया है।

ट्रिब्यूनल ने 38 साल की एक घरेलू महिला की सडक़ हादसे में हुई मौत के मामले में उसके पति और नाबालिग बेटी को Insurance Claim देने को कहा है। 2010 में मुम्बई में हुये एक रोड एक्सीडेंट में इस महिला को चोट आई थी और बाद में उसकी मौत हो गई।

मृतक महिला के पति ने ट्रिब्यूनल को बताया कि वह सरकारी कर्मचारी है और हर महिने 48 हजार रुपये कमाता है जबकि उसकी पत्नी ट्यूशन क्लास लेकर 10 हजार रुपये कमाती थी।

ट्रिब्यूनल ने कहा है कि वैसे तो शिकायत करने वाला व्यक्ति वाइफ की कमाई पर निर्भर नही था लेकिन यह नहीं भूलना चाहिये कि वह घर के काम करके भी सर्विस ही कर रही थी ऐसे में वाइफ की असमय मौत से उसे नुकसान हुआ है। इस तरह मृतक महिला विशाखा पर दो लोग पति और नाबालिग बेटी निर्भर थे।

ट्रिब्यूनल ने Insurance Claim का हिसाब लगाते समय विशाखा की उम्र, उसकी फ्यूचर इनकम, पति को सहारे और साथ का नुकसान और बच्चे को हुई भावनात्मक हानि पर भी गौर किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here