Renault Kwid: चैम्पियन Maruti Alto के लिये बनी चैलेंज

0
334

BeFunkyCollage2

सितम्बर में लॉन्च होने के बाद के आठ महिनों में 50 हजार Renault Kwid बिक चुकी हैं। हर महिने औसत करीब 6 हजार। इन्हीं आठ महिनों में Maruti Alto  करीब 1.70 लाख बिकी हैं। Maruti Alto 16 साल यानि करीब 200 सौ महिने से चल रही है और फरवरी में 30 लाख के लेवल को पार कर चुकी है। भारत में मारुति का बेस्ट सेलर मॉडल है और 5 बार ग्लोबल बेस्ट सेलर रह चुकी है। यानि Maruti Alto चैम्पियन है। ऐसे में Renault Kwid का इससे मुकाबला करना ठीक नहीं है। लेकिन स्टायलिश एसयूवी डिजायन वाली Renault Kwid देश की सबसे बड़ी कार कम्पनी मारुति की चैम्पियन ऑल्टो के लिये बहुत तेजी से तगड़ी चैलेंजर बनकर उभर रही है।

रेनो इंडिया ने अभी दो दिन पहले ही कहा है कि Renault Kwid के लिये उसे 1.25 लाख बुकिंग मिल चुकी हैं।
मारुति सुजुकी के जीएम मार्केटिंग एंड सेल्स विनय पंत के अनुसार ऑल्टो की इतनी बड़ी कामयाबी का राज अफोर्डेबिलिटी, फ्यूल एफीशियेंसी, ड्राइवेलिटी और और लगातार अपग्रेड होना है।

लेकिन Renault Kwid की पहचान भी बिल्कुल यही कैरेक्टर हैं ऐसे में ऑल्टो को 16 साल में पहली बार सीरियस चैलेंज महसूस होने लगा है। 2012 में आई Maruti Alto 800 का अपग्रेड मॉडल मई या जून में लॉन्च हो जायेगा।

प्रॉडक्ट: मारुति ऑल्टो800 में 796 सीसी का इंजन है जिससे 47 बीएचपी पावर मिलती है। वहीं Renault Kwid में 798 सीसी का 3-सिलिंडर पेट्रोल इंजन है जिससे 53 बीएचपी पावर मिलती है। Renault Kwid का सर्टिफाइड मायलेज 25.17 किलोमीटर है जबकि मारूति ऑल्टो का सर्टिफाइड मायलेज 22.17 किलोमीटर है।

प्राइस: Renault Kwid की शुरूआती प्राइस 2.62 लाख रुपये है जबकि Maruti Alto 800 की दिल्ली एक्स-शोरूम कीमत 2.56 लाख रुपये से शुरू होती है। 

 Kwid vs Alto

सेल्स परफॉर्मेन्स: Renault Kwid की अप्रेल में 9795 यूनिट्स बिकी हैं जबकि Maruti Alto 16583 ही बिक पाईं। हालांकि पिछले आठ महिनों का औसत देखें तो Maruti Alto की औसत सेल्स 21 हजार यूनिट्स रही है। दिसम्बर में यह 22589 यूनिट्स के पीक लेवल पर थी। जबकि इन्हीं आठ महिनों में Renault Kwid दस हजार यूनिट्स के लेवल के करीब पहुंच गई। सितम्बर 2015 यानि लॉन्च वाले महिने में रेनो क्विड सिर्फ 381 बिकी थीं जो दिसम्बर में 6888 यूनिट्स के लेवल पर पहुंच गईं। मार्च और अप्रेल लगातार दो महिने ऐसे रहे हैं जब Renault Kwid दस हजार यूनिट्स के लेवल के करीब पहुंची। मार्च में 9743 Renault Kwid बिकीं जबकि अप्रेल में 9795 यूनिट्स। यानि Maruti Alto जहां लगातार 20-22 हजार के लेवल पर जमी हुई है वहीं Renault Kwid तेज ग्रोथ करते हुये चैम्पियन ऑल्टो के लिये मजबूत चैलेंजर बन रही है।

प्लान: Maruti Alto के ये जो सेल्स फिगर हैं इनमें ऑल्टो800 और के10 दोनों शामिल हैं। के10 में 1 लीटर का के-सिरिज इंजन है और एएमटी यानि ऑटो मैन्यूअल ट्रान्समिशन का ऑप्शन भी।

ऑटो एक्स्पो में Renault Kwid का 1 लीटर इंजन और एएमटी गियर बॉक्स से लैस वैरियेंट डिस्प्ले हुआ था जो अब लॉन्च के करीब है। 1 लीटर इंजन और एएमटी गियर बॉक्स से लैस क्विड लाने के पीछे कम्पनी का मकसद इसके कस्टमर बेस का विस्तार करना है ताकि Maruti Alto के कस्टमर बेस मेें गहरी सेंध लगाई जा सके।

यदि यह मान लिया जाये कि अप्रेल 2016 में Maruti Alto की सेल्स का 21531 के मुकाबले 23 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 16583 यूनिट्स के लेवल पर आने का कारण इसका फेसलिफ्ट लॉन्च के लिये तैयार होने के चलते कम्पनी का पुरानी ऑल्टो के डीलर लेवल पर स्टॉक को निपटाना है तो भी मारुति ऑल्टो के औसत वॉल्यूम में फिलहाल ग्रोथ की उम्मीद कम है। दूसरी ओर रेनो ने क्विड का उत्पादन हाल ही बढ़ाया है और फिर डेटसन की रेडीगो भी इसी प्राइस रेंज में आ रही है ऐसे में Maruti Alto के लिये अपनी लीडरशिप को बचाये रखना इतना आसान नहीं होगा। फिर नई पीढ़ी की ऑल्टो अभी जापान में तैयार हो रही है और उसके 2017 के फेस्टिव सीजन से पहले लॉन्च होने की उम्मीद कम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here