जुलाई में Auto Sales में मॉनसून की फुहार

0
345

देशभर में मॉनसून की अच्छी बारिश ने ऑटो कम्पनियों के वॉल्यूम में जोश भर दिया है। आमतौर पर जुलाई यानि मॉनसून का महिना Auto Sales के मामले में थोड़ा कमजोर रहता है लेकिन इस बार हालात कुछ अलग नजर आ रहे हैं।
मॉनसून के अलावा अगस्त की सैलरी में वेतन आयोग का एरियर मिलने के अलावा अगस्त में ही लॉन्ग वीकेंड और रक्षाबंधन व जन्माष्टमी के त्योंहार पड़ रहे हैं। यानि हो सकता है कि जुलाई को जो बढ़ा हुआ वॉल्यूम है वो डीलरों के स्टॉक बढ़ाने के कारण बढ़ी डिमांड का नतीजा है।
बड़ी कम्पनियों में सिर्फ होन्डा कार्स इंडिया अकेली कम्पनी है जिसे सेल्स के मोर्चे पर नुकसान उठाना पड़ा है।
July Car Company salesमारुति ने जुलाई में घरेलू मार्केट में रिकॉर्ड 125778 यूनिट्स के डिस्पैच किये हैं जो पिछले साल जुलाई के 110405 यूनिट्स के डिस्पैच वॉल्यूम के मुकाबले 13.92 परसेंट अधिक है। हालांकि मारूति की इस रिकॉर्ड परफॉर्मेन्स का एक कारण जून में एक कम्पोनेंट वेंडर के प्लांट में आग लग जाने के कारण मारुति के प्लांट में उत्पादन ठप होना और इसके चलते Auto Sales के डिस्पैच में हुये घाटे की भरपाई भी हो सकती है। मारुति को हालांकि ऑल्टो और वैगन-आर वाले एंट्री लेवल सैगमेंट में 7 परसेंट का नुकसान हुआ है लेकिन बलेनो के 10 हजार यूनिट्स के डिस्पैच के कारण कॉम्पेक्ट सैगमेंट का वॉल्यूम 50362 यूनिट्स तक पहुंच गया। बलेनो के अलावा विटारा ब्रेज़ा के कारण यूवी मॉडलों की सेल्स जुलाई में करीब 150 परसेंट बढ़ गई। पिछले वर्ष जुलाई में इस सैगमेंट में 6916 यूवी गाडिय़ां ही बिक पाई थीं लेकिन पिछले महिने यह 17382 यूनिट्स के लेवल पर पहुंच गई।
ह्यूंदे ने जुलाई में डॉमेस्टिक मार्केट में 36503 यूनिट्स के मुकाबले 12.87 परसेंट ज्यादा यानि 41201 गाडिय़ां बेचीं। कम्पनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट राकेश श्रीवास्तव के अनुसार ग्रांड आई10, इलीट आई20 और क्रेटा के लिये अच्छी डिमांड बनी हुई है। अच्छी बारिश होने के साथ ही फ्यूल प्राइस और महंगाई में कमी आने से Auto Sales के लिये कंज्यूमर सेंटिमेंट में सुधार आया है।
महिन्द्रा एंड महिन्द्रा ने पिछले 12 महिनों में टीयूवी300, केयूवी100, सुप्रोवैन और नुवोस्पोर्ट आदि पैसेंजर मॉडल लॉन्च किये हैं। इन मॉडलों के मिले जुले असर के कारण जुलाई में कम्पनी ने 17356 पैसेंजर गाडिय़ां बेचीं जो जुलाई 2015 में हुई 14456 यूनिट्स की सेल्स के मुकाबले 20.6 परसेंट ज्यादा है। पैसेंजर और कमर्शियल मिलाकर इस महिने महिन्द्रा की कुल डॉमेस्टिक सेल्स 14 परसेंट बढक़र 35305 यूनिट्स रही।
लेकिन अच्छे मॉनसून और अच्छे कंज्यूमर सेंटिमेंट के बावजूद होन्डा को फायदा नहीं मिल पा रहा है। पिछले एक साल में जैज़ और बीआर-वी आदि दो मॉडल लॉन्च करने के बावजूद जुलाई में जापानी कम्पनी को 24.58 परसेंट का नुकसान उठाना पड़ा है। इस महिने होन्डा कार इंडिया का डिस्पैच वॉल्यूम 18606 यूनिट्स के मुकाबले घटकर 14033 यूनिट्स रह गया।
टोयोटा को नई इनोवा क्रिस्टा को मिले रेस्पॉन्स का फायदा मिल रहा है लेकिन नया मॉडल लॉन्च होने और मॉनसून अच्छा रहने के बावजूद सेल्स में सिर्फ 2.77 फीसदी की बढ़ोतरी आने वाले महिने के लिये चुनौतिपूर्ण रहने के संकेत दे रही है। हालांकि दिल्ली-एनसीआर में यदि डीजल बैन हट जाता है तो कम्पनी को बड़ी राहत मिलेगी।
रेनो ने जुलाई में 11968 गाडिय़ां बेचीं हैं जो पिछले साल जुलाई में हुई 1686 यूनिट्स की सेल्स के मुकाबले 609.85 परसेंट अधिक है। लॉजी को बहुत कमजोर रेस्पॉन्स मिलने के कारण जुलाई में कम्पनी को स्टॉक अटकने को देखते हुये प्रॉडक्शन में कटौती करनी पड़ी थी। रेनो की सेल्स में आये इस उछाल का बड़ा कारण क्विड के लगातार वेटिंग पर बना रहना है।
डेटसन रेडीगो के चलते जुलाई में निसान ने 6418 गाडिय़ां बेचीं जो पिछले साल जुलाई में हुई 2841 यूनिट्स की सेल्स के मुकाबले 125 फीसदी ज्यादा है।
फोर्ड ने हाल ही बड़ा केम्पेन लॉन्च किया था। इसका फायदा जुलाई की सेल्स में होने का दावा है। कम्पनी ने जुलाई में डॉमेस्टिक मार्केट में 7076 गाडिय़ां बेचीं जो पिछले साल जुलाई में हुई 4362 यूनिट्स की सेल्स के मुकाबले 62.21 परसेंट ज्यादा है। पिछले एक साल में फोर्ड तीन नये मॉडल लॉन्च कर चुकी है। जिनमें फीगो हैचबैक, फीगो एस्पायर कॉम्पेक्ट सेडान और नइ्र्र एंडेवर एसयूवी शामिल है।
हाल ही में फोक्सवैगन ने कॉम्पेक्ट सेडान आमियो की डिलिवरी शुरू की हैं। जुलाई में फोक्सवैगन ने डॉमेस्टिक मार्केट में कुल 4301 गाडिय़ां बेचीं जो पिछले साल जुलाई में हुई 4029 यूनिट्स की सेल्स के मुकाबले 6.75 फीसदी ज्यादा है।
टाटा मोटर्स टियागो को मिल रहे रेस्पॉन्स के कारण लगातार कंसोलिडेट कर रही है। जुलाई में टाटा मोटर्स ने 13586 गाडिय़ां बेचीं जो पिछले साल जुलाई में हुई 10335 यूनिट्स की सेल्स के मुकाबले 31.08 परसेंट ज्यादा है।
July  2W Company salesटू-व्हीलर: पैसेंजर की ही तरह टू-व्हीलर सैगमेंट में जुलाई ऑल आउट ग्रोथ का महिना रहा। गुजरात प्लांट में नई असेम्बली लाइन शुरू हो जाने के कारण होन्डा टू-व्हीलर को बड़ा फायदा हुआ है। कम्पनी ने जुलाई में रिकॉर्ड 453844 यूनिट्स के डिस्पैच किये जो पिछले साल जुलाई में हुये 389555 यूनिट्स के डिस्पैच के मुकाबले 17 परसेंट ज्यादा है।
हीरो मोटोकोर्प की सेल्स जुलाई में 487580 के मुकाबले 9.13 परसेंट की ग्रोथ के साथ 532113 यूनिट्स रही।
टीवीएस की सेल्स जुलाई में 18.70 परसेंट ग्रोथ के साथ 206605 यूनिट्स रही जबकि रॉयल एनफील्ड की सेल्स 31 परसेंट बढक़र 52138 यूनिट्स दर्ज की गई। यामहा की सेल्स जुलाई में 12 फीसदी की ग्रोथ के साथ 65244 यूनिट्स रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here