आखिर भारत क्यों आ रही है कोरिया की Kia मोटर्स?

0
324

Kia KX3

hayundai की सहयोगी कोरियाई कार कम्पनी Kia मोटर्स अपने इंडिया प्रॉजेक्ट को फास्ट ट्रेक कर रही है। कम्पनी 2019 में पहले प्रॉडक्ट कॉम्पेक्ट एसयूवी के लॉन्च के बाद डेढ़ साल में हैचबैक और कॉम्पेक्ट सेडान सहित कुल चार मॉडल लॉन्च करने के प्लान पर काम कर रही है।

कम्पनी ने अभी अप्रेल में ही आंध्र प्रदेश के अनंतपुर में प्लांट लगाने की बात कही थी। 1.1 बि. डॉलर के इन्वेस्टमेंट से लग रहे इस प्लांट जो कि 2019 की दूसरी छमाही के दौरान शुरू होगा, में साल मेें 3 लाख गाडिय़ां बन सकेंगी।

Kia मोटर्स ने बुधवार को भारत में अपनी ऑफिशियल वेबसाइट लॉन्च की है। 

भारत में अपने प्रॉजेक्ट को फास्ट ट्रेक करने का अंदाजा इस बात से भी लग सकता है कि कम्पनी अगस्त और सितम्बर में कुछ बड़े शहरों में रोड शो का आयोजन करेगी। दिल्ली, मुम्बई, बैंगलुरू और कोलकाता में आयोजित होने वाले इन रोड शो में कम्पनी उन लोगों को बुलायेगी जो किया मोटर्स के डीलर बनना चाहते हैं। माना जा रहा है कि रोड शो में किया मोटर्स भारत में अपने प्रॉडक्ट्स के बारे में बतायेगी और मार्केटिंग स्ट्रेटजी भी संभावित डीलरों के साथ साझा करेगी।

Kia मोटर्स और hayundai मोटर्स मिलकर दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी ऑटोमेकर कम्पनी हैं। 2016 में hayundai और Kia मोटर्स ने गलोबल मार्केट मेें कुल 78.80 लाख गाडिय़ां बेची थीं। लेकिन 1998 के बाद 2016 ऐसा पहला साल रहा जब इन कोरियाई सहयोगी कार कम्पनियों को सेल्स के मोर्चे पर नुकसान उठाना पड़ा।

माना जा रहा है कि ऑटो एक्स्पो 2018 में Kia मोटर्स अपने कुछ मॉडलों को डिस्प्ले करेगी और वहां मिलने वाले रेस्पॉन्स के आधार पर प्रॉडक्ट लाइनअप पर फैसला करेगी।

कोरिया की Kia मोटर्स की गलोबल मार्केट में पहचान सुजुकी/मारुति की तरह अफोर्डेबल कार मॉडलों के लिये है।

जिन चार मॉडलों को किया मोटर्स भारत में लॉन्च करने की तैयारी कर रही है उन्हें मास सैगमेंट में पोजिशन किया जायेगा। कम्पनी की कोशिश वॉल्यूम जेनरेट करने की है और इसीलिये कॉम्पेक्ट व सब कॉम्पेक्ट मॉडलों के साथ शुरूआत करना चाहती है।

Kia मोटर्स को लगता है कि दुनिया के पांचवे सबसे बड़े मार्केट भारत में आने में पहले ही बहुत देर हो चुकी है इसे देखते हुये वह शुरूआत में ही अच्छा डीलर नेटवर्क तैयार कर प्रॉडक्ट लॉन्च करना चाहती है।

Kia और hayundai को दुनिया के सबसे बड़े कार मार्केट चीन में कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। चीन में राष्ट्रवादी भावनाओं के उफान का निशाना कोरियाई और जापानी कम्पनियों पर भी रहा है। कुछ महिने पहले उत्तर कोरिया के हमलावर होने की आशंका के चलते अमेरिका ने द. कोरिया में एंटी मिसाल सिस्टम थाड को लगाया था। इसका चीन की सरकार ने तो विरोध किया ही चीन के मार्केट में कोरियाई कार कम्पनियों hayundai और Kia मोटर्स की गाडिय़ों को भी बड़े पैमाने पर बहिष्कार झेलना पड़ा। नतीजा यह हुआ कि पिछले 3 महिनों में इन कम्पनियों की चीन में सेल्स पर बहुत गहरा असर देखा गया।

इस तरह के हालातों मेें अपने सेल्स वॉल्यूम को बचाने के लिये hayundai और Kia मोटर्स भारत पर दांव बढ़ा रही हैं।

hayundai ग्लोबल मार्केट में अपने ब्रांड को प्रीमियम पोजिशन करने की स्ट्रेटेजी पर काम कर रही है और इस स्ट्रेटेजी में Kia मोटर्स की भूमिका मास ब्रांड की होगी।

hayundai की प्रीमियम पोजिशनिंग स्ट्रेटेजी का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि भारत में पिछले तीन सालों में लॉन्च उसके मॉडल्स को उसे अपने-अपने सैगमेंट में प्रीमियम प्राइस पर लॉन्च किया था। इलीट आई20 कॉम्पेक्ट हैचबैक सैगमेंट में और क्रेटा क्रॉसओवर एसयूवी सैगमेंट में अन्य मॉडलों के मुकाबले प्रीमियम प्राइस पर लॉन्च करने के बावजूद कामयाब रहे हैं। इसके अलावा कम्पनी ने 25 लाख के बजट में टक्सन एसयूवी को लॉन्च कर इस प्राइस वाले मार्केट को परखने की कोशिश की है। जल्दी ही आने वाली न्यू जेनरेशन वरना को भी माना जा रहा है कि वह मारुति सियाज़, होन्डा सिटी, फोक्सवैगन पोलो और स्कोडा रैपिड के मुकाबले प्रीमियम प्राइस पर लॉन्च करेगी। Photo Courtesy: CarPlace

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here