JLR ने चीन की Copycat Car कम्पनी लैंडविंड पर किया केस

0
396

Landwind X7 copycat car of Range Rover Evoque टाटा मोटर्स के ब्रिटिश ब्रांड जगुआर लैंड रोवर ने चीन की Copycat Car कम्पनी जियांगलिंग मोटर को Landwind X7 मॉडल में Range Rover Evoque की डिजायन कॉपी करने का आरोप लगाते हुये कोर्ट में घसीटा है। यह अपनी तरह का पहला मामला जब किसी मल्टीनेशनल कार कम्पनी ने चीन की किसी Copycat Car कम्पनी के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की है।

चीन दुनिया का सबसे बड़ा मार्केट है और जेएलआर की सेल्स का बड़ा हिस्सा चीन से आता है। जेएलआर के प्रवक्ता के अनुसार चीन के चाओयांग जिले की अदालत ने Jiangling Motor को कॉपीराइट के उल्लंघन और अनुचित कम्पीटिशन के आरोप में नोटिस जारी किया है।

जियांगलिंग का Landwind X7 मॉडल हू-ब-हू Range Rover Evoque जैसा दिखता है। 

चीन की कम्पनियों पर बड़े ब्रांड्स के मॉडलों की खुलेआम नकल करने के आरोप लगते रहे हैं लेकिन कानूनी प्रक्रिया की जटिलता और केस हार जाने की आशंका होने के कारण कम्पनियां इस तरह के मामलों में कोई कार्यवाही नहीं करती हैं। साथ ही कस्टमर में ब्रांड के खिलाफ गलत मैसेज जाने का भी डर भी मल्टीनेशनल कम्पनियों को रहता है।
यदि Copycat Car के इस मामले में JLR की जीत होती है तो माना जा रहा है कि दूसरी कम्पनियां भी इस तरह के कदम उठा सकती हैं और कॉपीराइट ट्रेडमार्क कानूनों की कड़ाई से पालना का दौर शुरू हो सकता है।
जियांगलिंग मोटर ने Landwind X7 मॉडल को नवम्बर 2014 में लॉन्च किया था और इसे बिल्कुल Range Rover Evoque की नकल माना जा रहा है।

मार्केट कन्सल्टेंट ऑटोमोटिव फोरसाइट के मैनेजिंग डायरेक्टर येल झैंग के अनुसार Landwind X7 की प्राइस Range Rover Evoque के मुकाबले एक तिहाई ही है। दोनों मॉडलों की क्वॉलिटी और परफॉर्मेन्स में बहुत अंतर है। ऑनलाइन स्टोर पर सिर्फ 20 डॉलर में बिक रही किट से Landwind X7 पर Range Rover Evoque की ब्रांडिंग और लोगो आदि लगाये जा सकते हैं।

खबरों के अनुसार लैंडविंड ने हाल ही ब्राजील में डिस्ट्रीब्यूटर बनाया है। लेकिन जेएलआर और जियांगलिंग के बीच हुये समझौते में लैंडविंड ने भरोसा दिलाया है कि वो ब्राजील में एक्स7 को नहीं बेचेगी।

चीन में ऐसे मामलों में फैसलों का रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं है। होन्डा ने भी चीन की देसी कम्पनी के खिलाफ Honda CR-V की डिजायन कॉपी करने का केस किया था जिसका फैसला 12 साल में होन्डा के पक्ष में हुआ था। होन्डा ने इस मामले में 300 मिलियन डॉलर का हर्जाना मांगा था लेकिन कोर्ट ने सिर्फ 2.43 मिलियन डॉलर का हर्जाना देने का फैसला सुनाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here