Car Insurance Claim: सुरक्षित पार्किंग में अनलॉक्ड गाड़ी छोडने से रिजेक्ट नहीं हो सकता क्लेम

0
414

insurance claimमुम्बई के एक कंज्यूमर फोरम ने एक बीमा कम्पनी के खिलाफ Car Insurance Claim मामले में फैसला सुनाया है जिसने Car Insurance Claim इस आधार पर रिजेक्ट कर दिया कि ड्राइवर ने गाड़ी को कुछ मिनटों के लिये खुला (अनलॉक्ड) छोड़ दिया था। जबकि बीमित पक्ष का दावा था कि गाड़ी सुरक्षित और ऐसी पार्किंग में खड़ी थी जिस पर कई सिक्यॉरिटी गार्ड तैनात थे। 

फोरम ने कहा सुरक्षित पार्किंग में अनलॉक्ड गाड़ी छोडऩे के आधार पर  Car Insurance Claim रिजेक्ट नहीं हो सकता और इंश्योरेंस कम्पनी को 5.25 लाख के साथ ही 40 हजार रुपये मुआवजा देने का आदेश दिया है।

यह मामला 2012 का है जब एक कम्पनी की सिक्यॉरिटी गार्ड से लैस कार पार्किंग से स्कोडा कार चोरी हो गई थी।

यह कार बांसवाडा सिंटेक्स लि. की थी और इस मामले में कम्पनी ने मार्च में सेंट्रल मुम्बई डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर रिड्रेसल फोरम में टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस कम्पनी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत में कहा गया कि 7 मई 2012 को बांसवाड़ा सिंटेक्स लि. के डायरेक्टरों की पार्किंग से कार चोरी हो गई। ड्राइवर रात को गाड़ी मेंं ही सोया और सुबह गाड़ी को अनलॉक्ड छोडक़र कुछ मिनट के लिये वॉशरूम गया था। इन्हीं कुछ मिनटों के दौरान कार चोरी हो गई।

Car Insurance Claim मामले में 9 मई 2012 को पुलिस में शिकायत दर्ज की गई और आरटीओ को सूचित किया गया। बीमा कम्पनी को भी सूचना दी गई और क्लेम का आवेदन दिया गया।

लेकिन बीमा कम्पनी ने 25 मार्च 2013 को एक लेटर के जरिये यह कहते हुये Car Insurance Claim रिजेक्ट करने की सूचना दी कि गाड़ी का सही ध्यान नहीं रखा गया और गाड़ी को अनलॉक्ड ही छोड़ दिया गया। बीमा कम्पनी ने कार को अनलॉक्ड छोडऩे को बीमा की शर्तों का उल्लंघन बताया।

बीमित कम्पनी बांसवाड़ा सिंटेक्स ने कहा कि टाटा एआईजी ने क्लेम इंवेस्टीगेटर की रिपोर्ट के आधार पर खारिज किया है। कम्पनी के एडवोकेट ने कहा कि कार पार्किंग बहुत सुरक्षित थी और उसमें कई सिक्यॉरिटी गार्ड तैनात थे। एडवोकेट ने यह भी कहा कि कम्पनी इंवेस्टीगेटर की रिपोर्ट को मानने के लिये बाध्य है।

मामले में फोरम ने कहा कि बीमा कम्पनी इंवेस्टीगेटर की रिपोर्ट को बिना किसी वाजिब कारण के खारिज नहीं कर सकती और यह कानूनी परम्परा है।

फोरम ने बीमा कम्पनी के खिलाफ फैसला सुनाते हुये कहा कि सिर्फ इसलिये कि गाड़ी अनलॉक्ड थी यह नहीं कहा जा सकता कि गाड़ी ऐसे ही अनअटेंडेड यानि लावारिस खड़ी थी। गाड़ी सिक्यॉरिटी गार्ड की मौजूदगी में सुरक्षित पार्किंग में खड़ी थी। ऐसे में बीमा कम्पनी ने कार इंश्योरेंस को गलत तरीके से खारिज किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here