GST: सेस हो गया 15 से 25 परसेंट , Honda City और Scorpio हो गई महँगी

0
1016

honda-city-मिड-साइज, बड़ी और एसयूवी कारों पर लगने वाले सेस को 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत करने वाले अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद एक्साइज ड्यूटी, सर्विस टैक्स और वैट जैसे इनडायरेक्ट टैक्स खत्म होने के कारण अधिकतर एसयूवी कारों की कीमतें 1.1 लाख से लेकर 3 लाख रुपये तक कम हो गई थीं। सेस बढ़ने से कारों की कीमतें फिर से बढ़ जाएंगी, जिससे कारों की मांग पर भी असर पड़ना तय है।

जीएसटी काउंसिल ने 5 अगस्त को एसयूवी, मिड-साइज और बड़ी कारों पर लगने वाला सेस बढ़ाने को मंजूरी दे दी थी। इस कैटिगरी वाली कारों के दाम जीएसटी के लागू होने के बाद गिर गए थे। कैबिनेट ने भी सेस बढ़ाने को मंजूरी दे दी है लेकिन इसके लिए जीएसटी मुआवाजा ऐक्ट के अनुच्छेद 8 में संशोधन करने होंगे। संसद के अभी सत्र में न होने के कारण एक अध्यादेश जारी कर दिया गया है। संसद के अगले सत्र में सरकार इस अध्यादेश को पारित कराने की कोशिश करेगी।

जीएसटी में कार, टबैको, कोयला जैसे गुड्स पर सेस लगाया गया था जिससे उन राज्यों को मुआवजा दिया जा सके जिन्हें जीएसटी लागू होने से कुछ घाटा होगा। कारों पर अधिकतम 28 प्रतिशत जीएसटी लगाया गया था। राज्य मुआवजा कोष बनाने के लिए कारों पर जीएसटी के अलावा 1 से 15 प्रतिशत सेस लगाया गया था जिसे अब बढ़ाकर 25 प्रतिशत किया जाएगा। जीएसटी के लागू होने के बाद कारों की कीमतों में कमी आई थी। अधिकारी ने बताया कि 9 सितंबर को होने वाली जीएसटी काउंसिल की अगली बैठक में यह तय किया जाएगा कि बढ़ा हुआ सेस कब से लगाया जाएगा। जीएसटी से पहले कारों पर 52 प्रतिशत से लेकर 54.72 प्रतिशत तक टैक्स लगता था वहीं जीएसटी लागू होने के बाद कुल टैक्स 43 प्रतिशत ही रह गया। अधिकारी ने बताया कि टैक्स कम होने से होने वाले घाटे की पूर्ति करने  लिए सेस 25 प्रतिशत करना पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here