GM India ने 1.55 लाख Chevrolet गाडिय़ों को किया रीकॉल

0
753

जीएम इंडिया की सेल्स लगातार रिवर्स गियर में है। जीएम इंडिया का मार्केट शेयर लगातार घट रहा है। जीएम इंडिया का कंज्यूमर कॉन्फीडेंस रसातल में। जीएम इंडिया की प्रॉडक्ट क्वॉलिटी सवालों के घेरे में। जीएम इंडिया 2 साल बाद एक बार फिर खबरों में हैं।

0GM India का यह ऑल टाइम रिकॉर्ड रीकॉल है। कम्पनी ने कहा है कि वह की-लैस एंट्री सिस्टम की वायरिंग में फॉल्ट के कारण Chevrolet Spark, Chevrolet Beat और Chevrolet Enjoy को रीकॉल कर रही है। ये गाडिय़ां 2007 से 2014 के बीच बनी हैं। इससे पहले 2013 में GM India ने सबसे ज्यादा 1.14 लाख Chevrolet Tavera को रीकॉल किया था।
GM India की ओर से जारी स्टेटमेंट में कहा गया है कि की-लैस एंट्री सिस्टम की वायरिंग में फॉल्ट के कुछ मामले सामने आये हैं। इस फॉल्ट के कारण की-लैस एंट्री सिस्टम में गड़बड़ी हो सकती और कुछ मामलों में गाड़ी लॉक हो सकती है। कम्पनी ने कहा है कि वे यूजर जिनकी गाड़ी का की-लैस एंट्री सिस्टम गड़बड़ी कर रहा है वे डीलर से अपने स्तर पर सम्पर्क कर सकते हैं।
यह GM India का सबसे बड़ा एकमुश्त रीकॉल है। हालांकि यह मामला प्रॉडक्ट क्वॉलिटी से जुड़ा है लेकिन 2013 के Tavera Recall  के मामले में GM India पर आपराधिक धोखाधड़ी के आरोपों की जांच हुई थी। Tavera Recall मामले में कम्पनी के इंजीनियरों की टीम ने Emission Norms पर खरा उतरने के लिये इंजन के साथ छेड़छाड़ की थी और यह सालों-साल होता रहा। GM India पर आरोप है कि जब कभी सर्टिफिकेशन एजेंसी की टीम जांच के लिये दौरा करती तो मानकों के अनुरूप इंजन पेश किया जाता लेकिन बाजार में जो Chevrolet Tavera बिकती उनमें जो इंजन इस्तेमाल किया जा रहा था वो मानकों के अनुरूप नहीं था। यानि सर्टिफिकेट के लिये GM India किसी और इंजन को दिखाती और बाजार में बिकने के लिये Chevrolet Tavera में कोई और इंजन लगाती।
इस मामले में GM India की टॉप इंजीनियरिंग व आर एंड डी टीम शामिल पाई गई और बात खुली तो दो दर्जन के करीब लोगों को बर्खास्त करना पड़ गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here