General Motors is so Casual in India-2

0
371

 

Chevrolet_Cruze

READ IN ENGLISH  अभी हाल ही में देश की सरकार बदली है। उम्मीद है कि बाजार के हालात सुधारने के लिये सरकार कड़े फैसले लेगी। जनरल मोटर्स इंडिया के उपाध्यक्ष पी बालेन्द्रन ने भी कहा कि आर्थिक सुधारों का नया दौर शुरू होना चाहिये। लेकिन बाला सर (पी बालेन्द्रन)…सरकार के जिस कैजुअल रवैये ने पिछले चार-पांच साल में बाजार को ऑफ द ट्रेक किया है वही कैजुअल रवैया जीएम इंडिया में भी साफ नजर आता है। जनरल मोटर्स भारत को लेकर कितनी कैजुअल है इसे समझने के लिये आपको ज्यादा रिसर्च करने की जरूरत नहीं है। पिछले कुछ सालों में कम्पनी के टॉप मैनेजमेंट की ओर से आये बयानों से ही इसका अंदाजा हो जाता है कि जनरल मोटर्स भारत में सिर्फ बयान भारती साबित हो रही है।  

पहला बयान: Karl Slym says General Motors India has set a target of hitting the 3-lakh mark in annual sales in 2013.

27 जनवरी 2011 को जनरल मोटर्स इंडिया के तब के एमडी कार्ल स्लाइम ने कहा था कि कम्पनी ने 2013 का अंत तीन लाख यूनिट्स के फिगर के साथ करने का लक्ष्य रखा है। यहां पढिय़े बयान..

2010 में कम्पनी की भारत में सालाना बिक्री 110804 यानि करीब 1.10 लाख यूनिट्स थी। जबकि 2013, जिसके लिये कम्पनी 3 लाख यूनिट्स के आंकड़े तक पहुंचने का लक्ष्य लेकर चल रही थी उसमें बिक्री रही 86829 यूनिट्स। इन तीन सालों में कम्पनी कहीं से भी लक्ष्य की ओर बढ़ती नजर नहीं आई। बल्कि बिक्री में गिरावट ही दर्ज की गई। इस दौरान कम्पनी ने मास सैगमेंट में बीट व बीट डीजल, सेल युवा और सेल सेडान व एंजॉय और डी सैगमेंट में शेवरले क्रूज़ आदि मॉडल पेश किये हैं। यानि इन तीन सालों में अलग-अलग सैगमेंटों में छह मॉडल पेश करने के बावजूद जीएम इंडिया की बिक्री 2010 के मुकाबले करीब 25 फीसदी घटी है। 

3 साल से रिवर्स गियर

वर्ष            सालाना बिक्री

2010         1,10,804 

2011          1,11,510

2012          92,000

2013          86829

दूसरा बयान: Vikas Jain says GM India aims to double sales by 2013

2 नवम्बर 2012 को कम्पनी के मार्केटिंग डायरेक्टर विकास जैन ने सेल युवा के लॉन्च के मौके पर कहा कि कम्पनी 2013 तक अपनी बिक्री को दोगुनी करना चाहती है। यहां पढिय़े इकोनॉमिक टाइम्स में प्रकाशित बयान..

2012 का अंत कम्पनी ने 92 हजार यूनिट्स के साथ किया था। फेस्टिव सीजन के तुरंत बाद कम्पनी ने अपने बेहद एम्बीशियस मॉडल नई शेवरले युवा को पेट्रोल व डीजल इंजनों के साथ पेश किया था। इसके दो महिने बाद सेल के सेडान अवतार को और मई में तेजी से बढ़ रहे एमपीवी सैगमेंट में एंजॉय को लॉन्च किया था। यानि विकास जैन ने ये जो बयान दिया था वह इन तीन मॉडलों से बिक्री में आने वाले उछाल की उम्मीद के आधार पर दिया था। कम्पनी के उपाध्यक्ष पी बालेन्द्रन के हवाले से आये एक बयान में कम्पनी ने वर्ष में करीब 48 हजार सेल रेंज की बिक्री होने की बात कही थी। इसके अलावा जिस एमपीवी सैगमेंट में एंजॉय को पेश किया जाना था वो भी स्वीट स्पॉट के रूप में तैयार हो रहा था। लेकिन इन तीनों मॉडलों के आने के बावजूद कम्पनी की बिक्री 92 हजार से घटकर 2013 में 86829 यूनिट्स पर आ गई।

पिछले वर्ष सेल सेडान के लॉन्च के मौके पर जीएम इंडिया के तब के एमडी(फरवरी 2014 से अरविंद सक्सेना) लॉवेल पैडक और एक अन्य निदेशक सौरभ वत्स से बात हुई तो विकास जैन के बिक्री दोगुना करने से सम्बंधित इस बयान को लेकर कम्पनी की प्रतिक्रिया चाही। जबाव मिला…No It’s not our target. He is not our official spokesman and we disown this statement.

साफ है कि General Motors seems to be very casual in Indian market.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here