General Motors की 50 करोड़ गाडिय़ां दुनिया की सडक़ों पर

0
179

gm-500-millionGeneral Motors ने 50 करोड़ भी गाड़ी का रोलआउट किया है। दो साल से इग्निशन स्विच की गड़बड़ी के चलते एक करोड़ से ज्यादा गाडिय़ों को रीकॉल कर चुकी General Motors दुनिया के 31 देशों में चल रहे प्रॉडक्शन प्लांट्स में हर साल करीब एक करोड़ गाडिय़ां बन रही है। 50 करोड़ यूनिट्स का प्रॉडक्शन वॉल्यूम अपने आप में एक रिकॉर्ड।

General Motors पिछले साल बिक्री के लिहाज से टोयोटा और फोक्सवैगन के बाद तीसरे पायदान पर रही थी। टोयोटा ने जुलाई 2012 में 20 करोड़ के प्रॉडक्शन स्तर तक पहुंचने की घोषणा की थी।

इस मौके पर सेंटर फोर ऑटोमोटिव रिसर्च के पूर्व अध्यक्ष डेव कोले ने कहा कि General Motors यदि एक नौकरी पैदा करती है तो उसके वेंडरों के यहां 9 लोगों को रोजगार मिलता है।

कम्पनी के फेअरफेक्स प्लांट में 50 करोड़वीं गाड़ी के रूप में शेवरले मलीबू का रोलआउट किया गया। General Motors की सीईओ मैरी बैरा की मौजूदगी में हुये एक कार्यक्रम में इस प्लांट पर 174 मिलियन डॉलर के निवेश की भी घोषणा की गई। Read GM Press Statement

आपको बता दें कि अमेरिका में मंदी के दौर में वर्ष 2009 में General Motors दिवालिया होने के स्तर पर पहुंच गई थी।
कम्पनी अब दुनिया भर में डिजिटल और सोशियल मीडिया पर “500 Million Thanks” मार्केटिंग केम्पेन चलायेगी।

Related News: Tavera के बंद होने का खतरा GM India को फिर आई Isuzu की याद

GM India की रिकवरी के लिये SAIC की भारत वापसी की तैयारी

ढ़ाई साल में भी पूरा नहीं हो पाया जीएम का Tavera Recall

Ignition Switch रिकॉल: General Motors दोषी साबित?

चीन दुनिया का सबसे बड़ा ऑटो मार्केट है और यह General Motors का भी सबसे बड़ा बाजार है। चीन में General Motors 11 जॉइंट वेंचर कम्पनियां चल रही है और यहां कम्पनी का मार्केट शेयर 10 फीसदी है।

General Motors पहली ऑटो कम्पनी है जिसने सबसे पहले 1961 में रोबोट्स का इस्तेमाल शुरू किया था। 1908 में शुरू होने के 56 वर्ष बाद 1964 में General Motors 10 करोड़ यूनिट्स के प्रॉडक्शन वॉल्यूम तक पहुंची थी लेकिन अगली 10 करोड़ गाडिय़ां सिर्फ 14 साल में ही बना ली थीं। कम्पनी ने 1991 में 30 करोड़वीं गाड़ी को रोलआउट किया था और 2002 में 40 करोड़ के स्तर पर पहुंची थी। कम्पनी का आंकलन है कि यदि सेल्स का मौजूदा ट्रेंड बरकरार रहा तो कम्पनी 60 करोड़ यूनिट्स का प्रॉडक्शन वॉल्यूम दस साल में हासिल कर लेगी।

वर्ष 2008 में General Motors अपनी ग्लोबल प्रॉडक्शन कैपेसिटी का 71.1 फीसदी इस्तेमाल कर रही थी जबकि 2015 में प्रॉडक्शन कैपेसिटी का 103.8 फीसदी इस्तेमाल करने का आंकलन लेकर चल रही है।

Image Courtesy: Autoblog.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here