New Figo रेंज के बाद Ford India अब लॉन्च करेगी ब्रांड केम्पेन

0
491

ford aspireFord India पांच साल में 4 नये मॉडल लॉन्च करने के बावजूद Figo के लॉन्च वाले साल 2010 के वॉल्यूम को नहीं छू पा रही है। पिछले साल New Figo और Figo Aspire लॉन्च करने के साथ ही फोर्ड इंडिया ने Ecosport को भी अपग्रेड किया था लेकिन जिसे कम्पनी अपना लॉयल कस्टमर मान रही थी वो न जाने कहां छिटक गया। Ford India को शायद लगता है कि ब्रांड को नये सिरे से कस्टमर तक पहुंचाने की जरूरत है बस इसीलिये 200 करोड़ रुपये का बहुत बड़ा ब्रांड केम्पेन शुरू कर रही है।

फोर्ड ब्रांड: फोर्ड इंडिया को लगता है कि फोर्ड ब्रांड के लिये ट्रस्ट डेफिसिट पैदा हो रहा है यानि फोर्ड ब्रांड में कस्टमर का भरोसा घट रहा है ऐसे में कम्पनी भारत की ऑटो इंडस्ट्री का सबसे बड़ा ब्रांड केम्पेन लॉन्च कर रही है।

केम्पेन के तहत Ford India सर्विस के रुटीन खर्च लिमिट तय कर देगी। यदि किसी कस्टमर से डीलर ने ज्यादा पैसे वसूले हैं तो लौटाये जायेंगे और डीलर के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। Ford India का मानना है कि इससे कस्टमर को यह अंदाजा होगा कि रुटीन सर्विस और मेंटीनेन्स पर कितना खर्च होगा। Ford India सभी पार्ट्स की प्राइस लिस्ट ऑनलाइन कर रही है साथ ही सिर्फ डेढ़ घंटे में सर्विस की सुविधा भी देगी। यदि सर्विस में 24 घंटे से ज्यादा लगने हैं तो कस्टमर को आने-जाने के लिये दूसरी गाड़ी दी जायेगी।

ब्रांड एक्सपर्ट कहते हैं कि फोर्ड अभी एक कम्पनी है जो गाडिय़ां बनाती है। यानि दर्जनभर कम्पनियों से एक है। जब तक Ford India अपनी ब्रांड की पोजिशनिंग पर ध्यान नहीं देगी तब तक बात नहीं बनेगी और ऐसे ब्रांड केम्पेन आगे भी लाने पड़ेंगे। क्लीयर ब्रांड पोजिशनिंग के जरिये Ford India को अपना कस्टमर बेस डवलप करने की जरूरत है।

वन मॉडल: भारत में फोर्ड की पहचान 10 महिने पहले तक वन-मॉडल कम्पनी की थी। पहले पूरा दांव आईकॉन पर था फिर Ford India का फोकस फीगो पर आ गया। Figo अपने समय में 7-8 हजार महिने के पीक लेवल तक पहुंच गई थी और लाइफ साइकल के आखिर में भी महिने में 1200 औसत बिक रही थीं। फीगो को कमजोर पड़ते देख Ford India ने कॉम्पेक्ट एसयूवी Ecosport को लॉन्च किया और करीब 2 साल तक फोर्ड का वॉल्यूम ईकोस्पोर्ट पर निर्भर हो गया।

न्यू मॉडल नो वंडर: अपनी वन-मॉडल कम्पनी की पहचान को बदलने के लिये पिछले 10 महिने में फोर्ड ने New Figo, Figo Aspire और New Endeavour को लॉन्च किया। सोच थी कि Ford India ने फीगो और ईकोस्पोर्ट के जरिये जो कस्टमर बेस तैयार किया है उसे अपग्रेड के ऑप्शन मिलेंगे तो कस्टमर बेस बढ़ेगा जिसका फायदा सेल्स वॉल्यूम में होगा।

लेकिन तीन मॉडलों के लॉन्च के बावजूद Ford India बैक टू स्क्वॉयर वन नजर आ रही है। कारण New Figo और Figo Aspire से Ford India जो उम्मीद कर रही थी वो पूरी नहीं हो पा रही हैं। Ford India का मानना था कि फीगो से उसका लॉयल कस्टमर बेस तैयार हो गया है जिसे अब अपग्रेड करने का ऑप्शन चाहिये। पर वो कस्टमर ना जाने कहा चला गया।
Ford India Sales YOY फीगो फंडा : वर्ष 2013 के जून में फोर्ड ने Ecosport को लॉन्च किया था। लम्बी वेटिंग चली और कम्पनी को बुकिंग बंद करनी पड़ी। Ecosport को मिले रेस्पॉन्स के दम पर फोर्ड ने 2013 को 82450 के साथ अलविदा कहा। इससे पहले फीगो के लॉन्च वाले साल 2010 में फोर्ड ने ऑल टाइम रिकॉर्ड 98537 गडिय़ां बेची थीं। 2014 में Ford India का पूरा फोकस ईकोस्पोर्ट पर ही रहा और वर्ष का अंत 79167 यूनिट्स के साथ हुआ। 2015 में फोर्ड ने New Figo और Figo Aspire को लॉन्च किया। इसके अलावा Ecosport का भी अपग्रेड मॉडल बाजार में आया। स्वीट स्पॉट वाले तीनों बड़े सैगमेंट्स में मॉडल होने के बावजूद 2015 में Ford India छलांग लगाने से चूक गई और साल में कम्पनी का सेल्स वॉल्यूम 79824 यूनिट्स रहा। Ford Figo Salesलाइफ साइकल के आखिरी दौर में पुरानी फीगो महिने मेें औसत 1200 बिक रही थीं लेकिन New Figo ने कम्पनी की उम्मीदों को तगड़ा झटका दिया है। लॉन्च के बाद सिर्फ एक महिना अक्टूबर ऐसा रहा है जब New Figo 3500 यूनिट्स के लेवल पर पहुंची । इसके बाद से New Figo की रिवर्स ड्राइव चल रही है और महिने-दर-महिने घटते हुये अप्रेल में 1055 यूनिट्स के लेवल पर आ गई। पिछले 8 महिने में कुल 15863 New Figo बिकी हैं यानि हर महिने करीब 2 हजार। Figo Aspire की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। पहले महिने यानि अगस्त में इसके 5176 यूनिट्स के डिस्पैच हुये थे लेकिन फरवरी में Figo Aspire सिर्फ 855 ही बिक पाईं। महिने-दर-महिेन गिरावट का जो ट्रेंड New Figo में नजर आता है वो ही Figo Aspire का भी है। शुरूआती 9 महिनों में 21518 Figo Aspire बिकीं यानि औसत 2390 यूनिट्स हर महिने।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here