Tata Motors से हाथ मिला भारत आना चाहती है चीन की कार कम्पनी Chery

0
349

Chery Carsचीन की कार कम्पनी Chery इंटरनेशनल भारत आने की तैयारी कर रही है। खबर है कि चैरी की Tata Motors के साथ पार्टनरशिप के लिये बातचीत चल रही है। चीन दुनिया का सबसे बड़ा कार मार्केट है। साल में कोई ढ़ाई करोड़ कार बिकती हैं। दूसरी ओर भारत में पिछले साल 30 लाख पैसेंजर वेहीकल बिके थे।

Chery इंटरनेशनल वही कम्पनी है जिसके साथ Tata मोटर्स के ब्रिटिश ब्रांड जगुआर लैंडरोवर (JLR) ने चीन में कार प्लांट लगाया है।

पिछले दिनों फ्रेंकफर्ट मोटर शो के मौके पर Chery इंटरनेशनल के चेअरमैन यिन तोंगयाओ ने कहा कि टाटा मोटर्स के साथ कम्पनी की पार्टनरशिप है और हम भारत के बाजार में प्रॉडक्ट लॉन्च करने के लिये टाटा मोटर्स के साथ टाई-अप पर विचार कर सकते हैं। लेकिन यह बिना टाटा मोटर्स के भी हो सकता है।

भारत के कार बाजार में उतरने के लिये चीन की कम्पनियां 6 साल से कोशिश कर रही हैं। लेकिन मेड इन चायना गाडिय़ां की क्वॉलिटी और ब्रांडिंग को लेकर भारतीय ग्राहकों के नजरिये के कारण बात आगे बढ़ नहीं पाई हैं।

मई में चीन की कार कम्पनी SAIC ऑटोमोटिव ने अपने ब्रिटिश ब्रांड एमजी को भारत में लॉन्च करने की घोषणा की है। इसी तरह Beiqi Foton नाम की कम्पनी जर्मनी के 1961 में बंद हो चुके ब्रांड Borgward को भारत लाने की तैयारी कर रही है। बीकी फोटोन की योजना पहले भारत में ट्रक-बस लॉन्च करने की थी और कम्पनी ने पुणे के निकट चाकण में प्लांट लगाने की बात कही थी लेकिन अब यह ट्रक-बस के बजाय पैसेंजर वेहीकल प्रॉजेक्ट हाथ में लेने पर विचार कर रही है।

SAIC ऑटोमोटिव (पुराना नाम शंघाई ऑटो इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन) अमेरिकी कम्पनी जनरल मोटर्स की पार्टनर है और साइक ने भारत के बाजार में कदम रखने के लिये 2012 में जनरल मोटर्स इंडिया में 43 परसेंट हिस्सेदारी खरीदी थी लेकिन यह डील खत्म हो गई। डील के खत्म होने के बाद जीएम इंडिया ने भारत में साइक की मदद से चीन में डवलप तीन मॉडल सेल, युवा और एंजॉय को लॉन्च किया लेकिन ये तीनों ही मॉडल बुरी तरह नाकामयाब रहे। जनरल मोटर्स को भारत के बाजार से विदा लेने के पीछे इन इन मॉडलों के फेल हो जाने को बड़ा कारण माना जाता है।

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि चीन की Changan और Greatwall सहित करीब आधा दर्जन कम्पनियां भारत के ऑटो मार्केट में उतरने के लिये तैयार हैं और इनमें से कई फरवरी 2018 में होने वाले ऑटो एक्स्पो में अपने मॉडल डिस्प्ले करेंगी।

जहां तक टाटा मोटर्स और Chery International की बात है तो दोनों कम्पनियों के बीच पार्टनरशिप की यह कोई पहली चर्चा नहीं है। कुछ साल पहले टाटा मोटर्स ने चैरी इंटरनेशनल से प्लेटफॉर्म लेने के लिये बात की थी। लेकिन फिर टाटा मोटर्स की फोक्सवैगन और फ्रांस की पजियट के साथ पार्टनरशिप की बात शुरू हो गई और Chery वाला प्रॉजेक्ट ठंडे बस्ते में चला गया।

2016 में चीन से भारत करीब 28 करोड़ डॉलर का निवेश आया था इसमें से 60 परसेंट ऑटो सैक्टर के लिये ही था।

फिलहाल चीन की जिली स्वीडन के वोल्वो कार ब्रांड के जरिये भारत में मौजूद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here