BS3 emission वाली गाडिय़ों पर 22000 तक का बम्पर Discount

0
544

bs3 emission normsबिज़डमऑटो ने 11 फरवरी को BS3 गाडिय़ों को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती को देखते हुये बम्पर डिस्काउंट की जो खबर पब्लिश की थी वो सही साबित हुई।

सुप्रीम कोर्ट के 1 अप्रेल से BS3 गाडिय़ों की सेल्स और रजिस्ट्रेशन को बंद कर देने का फैसले का असर आज के अखबारों में साफ नजर आता है। जयपुर में बजाज ऑटो ने BS3 emission norm वाली सीटी 100 के लिये 29990 रुपये का स्पेशल प्राइस ऑफर दिया है। बजाज ऑटो एवेंजर, पल्सर और आरएस200 पर 13000 तक का डिस्काउंट ऑफर दे रही है ।

Hero Motocorp 12500 रुपये तक का कैशबैक और फ्री इंश्योरेंस का ऑफर दे रही है।

Honda 2W के विज्ञापनों में सीडी110, ड्रीम युगा, लीवो और शाइन आदि बाइक मॉडलों पर 10 हजार रुपये कैशबैक की स्कीम की चर्चा है। Honda 2W ने अपनी पूरी रेंज पर डिस्काउंट बढाकर 22 हज़ार रूपये तक कर दिया है। 

Yamaha ने सैल्यूटो बाइक और एल्फा स्कूटर के लिये 1 हजार रुपये तक की एक्सैसरी और 9.9 परसेंट की स्पेशल फायनेन्स स्कीम का विज्ञापन दिया है। Yamaha ने कहा है कि वह सिलेक्टेड मॉडल्स पर 10000 रूपये तक का डिस्काउंट दे रही है।

TVS मोटर कम्पनी ने जुपिटर और पेप+ स्कूटर के लिये 3.99 परसेंट की बहुत सस्ती रेट पर फायनेन्स करने की बात कही है। TVS ने 20150 तक के डिस्काउंट की घोषणा की है।  

डिस्काउंट के ये सभी ऑफर BS3 एमिशन नॉर्म वाली गाडिय़ों पर ही मिलेंगे। 

सुप्रीम कोर्ट में पेश एफिडेविट के अनुसार कम्पनियों और डीलरों के स्टॉक में 6.71 लाख BS3 मानकों वाले स्कूटर/बाइक हैं। इनके अलावा 96 हजार कमर्शियल वेहीकल, 40 हजार ऑटो और करीब 16 हजार पैसेंजर वेहीकल हैं।

इन कुल 8.24 लाख बीएस3 emission norms वाली गाडिय़ों को कम्पनियां 31 मार्च तक ही बेच पायेंगी। 1 अप्रेल से ना तो ये गाडिय़ां बिक पायेंगी और ना ही इनका रजिस्ट्रेशन हो पायेगा।

भारत सरकार ने अगस्त 2015 में एक नोटिफिकेशन जारी करते हुये कहा था कि 1 अप्रेल 2017 से पूरे देश में सभी तरह की गाडिय़ोंं के लिये BS4 एमिशन नॉर्म को अनिवार्य कर दिया था। हालांकि इस नोटिफिकेशन की भाषा को लेकर ऑटो कम्पनियों और सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई कमेटी ईपीसीए में विवाद चल रहा था। कम्पनियों का कहना था कि 31 मार्च की कटऑफ तारीख BS3 गाडिय़ों का प्रॉडक्शन बंद करने के लिये है। जबकि ईपीसीए का तर्क था कि 31 मार्च 2017 के बाद ना तो नॉन BS4 गाडिय़ां बन पायेंगी और ना ही बिक पायेंगी। इनके अलावा पूरे देश में नॉन BS4 गाडिय़ों का रजिस्ट्रेशन भी बंद हो जायेगा।

वाहन निर्माता कम्पनियों के संगठन सियाम ने एक बयान जारी करते हुये कहा है कि वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करेगी। सियाम ने कहा है कि ऑटो इंडस्ट्री तो नये एमिशन नॉम्र्स के लिये 2010 से ही तैयार है लेकिन पूरे देश में बीएस4 मानक वाला पेट्रोल/डीजल उपलब्ध नहीं होने के कारण सिर्फ BS4 गाडिय़ां बेचना संभव नहीं था। भारत सरकार के नोटिफिकेशन में भी मैन्यूफैक्चरिंग की ही बात कही गई है और इससे पहले भी एमिशन नॉम्र्स अपग्रेड करने के लिये मैन्यूफैक्चरिंग को ही आधार बनाया गया था।

1 अप्रेल से जहां पूरे देश में सभी तरह की गाडिय़ों पर BS4 मानक लागू होंगे वहीं BS5 मानकों को स्किप करते हुये भारत सरकार ने 1 अप्रेल 2020 से सीधे BS6 मानक लागू करने का फैसला किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here