मिनी सैगमेंट मजबूत होने से मारुति का मार्केट शेयर बढ़ा

0
1195

marutialto800

कमजोर बाजार मारुति के लिये खुशी की खबर लेकर आया है। जून में ऑल्टो और वैगन-आर के डिस्पैच रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच जाने का फायदा कम्पनी को बाजार हिस्सेदारी में भी नजर आ रहा है। चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही अप्रेल-जून में मारुति सुजुकी की बाजार हिस्सेदारी 42 फीसदी तक पहुंच गई। इस अवधि में ना केवल कम्पनी को ऑल्टो और वैगन-आर से सहारा मिला है बल्कि रूरल मार्केट में भी मारुति सुजुकी की स्थिति बेहतर हुई है। अप्रेल-जून की तिमाही में पैसेंजर सैगमेंट में कुल 573938 गाडिय़ों की बिक्री हुई और इसमें मारुति का योगदान 241812 यूनिट्स का रहा। इस प्रकार इस अवधि में कम्पनी की बाजार हिस्सेदारी 42.19 फीसदी तक पहुंच गई। पिछले वर्ष इसी अवधि में 518416 यूनिट्स की बिक्री हुई थी जिसमें मारुति सुजुकी की हिस्सेदारी 222645 यूनिट्स के साथ 39.87 फीसदी थी। 

मारुति सुजुकी के सीओओ मयंक पारीक कहते हैं कि फस्र्ट टाइम बायर, रूरल और अर्बन मार्केट व एक्सचेंज स्कीम पर फोकस बढ़ाने का कम्पनी को फायदा मिल रहा है। 

जून के आंकड़ों के अनुसार पैसेंजर सैगमेंट में कुल 204081 यूनिट्स की बिक्री हुई जिसमें मारुति सुजुकी की हिस्सेदारी 91226 यूनिट्स थी। इस लिहाज से जून में कम्पनी का योगदान 45 फीसदी तक पहुंच गया। पारीक के अनुसार पहली तिमाही में गाडिय़ों की बिक्री अमूमन कमजोर ही रहने के बावजूद कम्पनी की बिक्री करीब 10 फीसदी बढ़ी है। पारीक के अनुसार लम्बे समय बाद जून ऐसा महिना रहा है जब कम्पनी की बाजार हिस्सेदारी 45 फीसदी के पार पहुंची है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here