मई में मिले रिकवरी की शुरुआत के संकेत

0
933

Passenger-Vehicle-Two-Whe

45 डिग्री की गर्मी में ठंडी हवा सी खबर है। ऑटो इंडस्ट्री के मई के जो आंकड़े आये हैं वे हो सकता है कि टर्न अराउंड की ओर इशारा कर रहे हों। यदि ट्रक-बस को छोड़ दिया जाये तो पैसेंजर वेहीकल (पीवी) से लेकर टू और थ्री-व्हीलर के हर सैगमेंट व सब-सैगमेंट में बिक्री बढ़ी है।
पीवी सैगमेंट में सिर्फ वैन ही ऐसा सबसैगमेंट है जिसमें मई में भी बिक्री घटी। इस महिने 15109 वैन बिकीं जबकि पिछले वर्ष मई में इसमें 15891 यूनिट्स की बिक्री हुई थी। मारुति ओमनी और ईको वाले इस सैगमेंट में वैसे सुधार की उम्मीद भी नहीं है। कारण ये मॉडल ज्यादातर टेक्सी सैगमेंट में इस्तेमाल होते हैं और वहां पेट्रोल नहीं बल्कि डीजल का चलन है। स्कूल कैब सैगमेंट भी टाटा एस आदि मॉडलों का दबदबा बढ़ रहा है।
वहीं कार बाजार में मई में 148577 गाडिय़ां बिकीं जो पिछले वर्ष मई में हुई बिक्री के मुकाबले 3.08 फीसदी अधिक है। पिछले चार-पांच महिने में जो नये मॉडल आये अब उनकी बिक्री स्टेबल हो रही है वहीं डीजल लगातार महंगा होने से पेट्रोल कारों में भी रफ्तार लौटने लगी है। आने वाले महिनों में डॉलर के कमजोर बने रहने से उम्मीद है कि पेट्रोल सस्ता होगा वहीं डीजल में हर महिने 50 पैसे की बढ़ोतरी जारी रहेगी। यानि चार लाख रुपये से नीचे के सैगमेंट जिसमें पेट्रोल मॉडल आते हैं उसके रिवाइवल की गुंजाइश लगातार बढ़ रही है।
करीब एक साल तक रिवर्स गियर में रहने के बाद मई में यूवी सैगमेंट की भी चाल बदली है। पिछले महिने इसमें 44267 यूनिट्स की बिक्री हुई जो मई 2013 में हुई 42335 गाडिय़ों की बिक्री के मुकाबले 4.56 फीसदी बेहतर है।
यदि बात टू-व्हीलर सैगमेंट की करें तो अब मॉपेड भी गिरावट के दौर से बाहर आ चुकी है। छोटे कारोबारियों की पहली पसंद इस लो कॉस्ट बाइक में बिक्री बढऩे से इकोनॉमी के रिवाइवल के भी संकेत मिल रहे हैं। स्कूटर की छलांग मई में भी जारी रही है और लगातार नये मॉडल आने से आने वाले महिनों में भी तेजी का ये दौर बरकरार रहने की उम्मीद है। वहीं बाइक सैगमेंट पिछले वर्ष मई में हुई 881288 यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले 11.71 फीसदी बढक़र 984469 यूनिट्स तक जा पहुंचा है। यदि मानसून की शुरुआत अच्छी रही तो यह जल्दी ही दस लाख के मंथली लेवल को पार कर जायेगा।
यानि ऑटो इंडस्ट्री का व्हील अब ग्रोथ की ओर बढ़ रहा है, कम से कम संकेत तो ऐसे ही मिल रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here