पीवी सैगमेंट को मिला नये लॉन्च का फायदा, 2व्हीलर में दबाव बढ़ा

0
1155

november companiesनवम्बर में दिवाली की डिमांड के बावजूद टोयोटा, टाटा और होन्डा की कार सेल्स में गिरावट आई। दूसरी ओर मारुति, ह्यूंदे, महिन्द्रा और रेनो के वॉल्यूम में अच्छी ग्रोथ दर्ज की गई। टू-व्हीलर सैगमेंट में हीरो से लेकर होन्डा और टीवीएस तक का वॉल्यूम दबाव में रहा। यानि फेस्टिव सीजन के लिये स्टॉक बढ़ाने के कारण अक्टूबर में जो ग्रोथ नजर आई थी वो नवम्बर में दोनों ही सैगमेंट्स से नदारद रही। आगे के हालात और भी विकट हो सकते हैं क्योंकि रूरल इकोनॉमी पर संकट लगातार बना हुआ है।
ऑल्टो और वैगन-आर वाले सैगमेंट में मारुति को जरूर कुछ नुकसान हुआ है लेकिन बाकी सभी सैगमेंट्स पॉजिटिव में रहे है। कम्पनी की डॉमेस्टिक सेल्स 10.6 फीसदी बढक़र 110599 यूनिट्स रही। ह्यूंदे को भी क्रेटा और इलीट को मिले रेस्पॉन्स का फायदा मिल रहा है। नवम्बर में कम्पनी ने 23 फीसदी ग्रोथ के साथ 43651 गाडिय़ां बेचीं। फोर्ड और रेनो को भी नये मॉडलों का फायदा मिला है। लेकिन होन्डा और टोयोटा को नुकसान उठाना पड़ा है। टाटा मोटर्स की सेल्स में भी गिरावट आई है लेकिन इसका बड़ा कारण ज़ीका का लॉन्च नजदीक होने के कारण पुराने मॉडलों की इन्वेंटरी निपटाना माना जा सकता है।
महिन्द्रा एंड महिन्द्रा को अलग-अलग सैगमेंट में एक साथ दो मॉडल टीयूवी300 और सुप्रो वैन आने से टोटल वॉल्यूम में फायदा हुआ है। कम्पनी ने नवम्बर में 19662 पैसेंजर गाडिय़ां बेचीं जो पिछले साल नवम्बर के डिस्पैच के मुकाबले 37 फीसदी ज्यादा है।
कहा जा सकता है कि जिन कम्पनियों ने हाल के महिनों में नये मॉडल लॉन्च किये उन्हें पैसेंजर सैगमेंट में फायदा हुआ है।
टू-व्हीलर सैगमेंट ऑटो इंडस्ट्री के लिये चिंता का नया कारण बनता लग रहा है। होन्डा को नवम्बर में 11.60 फीसदी का घाटा हुआ और सेल्स 353738 के मुकाबले 312504 यूनिट्स ही रह गई। हीरो मोटोकोर्प के डिस्पैच फ्लैट रहे वहीं टीवीएस को 6 फीसदी का फायदा हुआ। रॉयल एनफील्ड की रफ्तार लगातार बनी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here