नवम्बर में बिक्री बढ़ी:शायद ईयर एंड का मिला फायदा

1
1388

Company sales Nov._Page_1

दिवाली भले ही झटका दे गई हो लेकिन नवम्बर में कार बिक्री में फिर थोड़ी गर्मी दिखाई दी है। हालांकि अभी कह नहीं सकते कि आगे के महिनों में भी यही ट्रेंड बरकरार रहेगा लेकिन फिर भी घाटे में थोड़ी-बहुत कमी जरूर आ सकती है। ये जो ट्रेंड है इसके दो कारण नजर आ रहे हैं एक तो दिवाली के आस-पास कई नये मॉडलों का लॉन्च होना और दूसरा है पेट्रोल व डीजल की कीमतों में लगातार आ रही गिरावट।
मारुति की घरेलू बिक्री 17 फीसदी उछाल के साथ एक बार फिर 1 लाख यूनिट्स के पार पहुंच गई और कम्पनी के पोर्टफोलियो में सिर्फ यूवी सैगमेंट ऐसा है जिसमें गिरावट आई है। मिनी सैगमेंट में भी 296 यूनिट्स का नुकसान उठाना पड़ा है लेकिन सियाज़ कम्पनी की उम्मीदों पर खरी उतर रही है और यह लगातार 5 हजार के स्तर पर बनी हुई है।
हालांकि नवम्बर और दिसम्बर ईयर एंड के महिने माने जाते हैं और कम्पनियां अपना स्टॉक निपटाने के लिये बड़े डिस्काउंट देती हैं ऐसे मेें नवम्बर के डिस्पैच में यह तेजी नजर आ रही है। रिसर्च एजेंसी क्रिसिल के निदेशक अजय श्रीनिवासन का मानना है कि नवम्बर के आंकड़ों से किसी ट्रेंड का पता नहीं चलता। नये मॉडल आने से कुछ कम्पनियों की बिक्री बढ़ी है और यह पूरी इंडस्ट्री की रिकवरी नहीं है। कुछ कम्पनियों का स्टॉक तो 4-6 सप्ताह से बढक़र 8-10 सप्ताह तक पहुंच चुका है। फिर भी पेट्रोल-डीजल सस्ता होने से सेंटिमेंट जरूर सुधरा है।
कुछ दिनों पहले मारुति सुजुकी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर आरएस कल्सी ने बिज़डम ऑटो को बताया था कि पैसेंजर वेहीकल सैगमेंट का वित्तीय वर्ष का अंत 4 फीसदी बढ़त के साथ हो पायेगा।
पैसेंजर सैगमेंट में सबसे बड़ी खबर टाटा मोटर्स का 20 महिने बाद फिर ग्रोथ के रास्ते पर लौटना है। कम्पनी ने नवम्बर में 12021 गाडिय़ंा बेची जो पिछले वर्ष नवम्बर में हुई 10376 यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले 16 फीसदी अधिक है। ज़ेस्ट के आने से नवम्बर में कम्पनी को कार सैगमेंट में 30 फीसदी का फायदा हुआ है लेकिन सूमो और सफारी वाले यूवी सैगमेंट में इतना ही नुकसान उठाना पड़ा है।
महिन्द्रा के पीवी पोर्टफोलियो पर दबाव लगातार बना हुआ है और नवम्बर में कम्पनी की बिक्री 18 फीसदी गिरी है। जनरल मोटर्स के हालात बेहद विकट हैं वहीं फोर्ड की पूरी बिक्री ईकोस्पोर्ट पर निर्भर है। दोनों अमेरिकी कम्पनियों की बिक्री नवम्बर में क्रमश: 33 और 28 फीसदी गिरी है।
टू-व्हीलर सैगमेंट में रॉयल एनफील्ड नीश पोर्टफोलियो के बावजूद कई मास कम्पनियों को टक्कर दे रही है। टीवीएस इन दिनों ग्रोथ फेज में है और नये मॉडल लॉन्च करने का कम्पनी को फायदा मिल रहा है। होन्डा टूव्हीलर पूरा जोर लगाने के बावजूद बाइक सैगमेंट में ज्यादा कामयाब नहीं हो पा रही है। पिछले वर्ष नवम्बर में कम्पनी ने करीब 1.43 लाख बाइक्स बेची थीं जो पिछले महिने घटकर 1.37 लाख यूनिट्स पर आ गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here