टॉप-4 के लिये होन्डा है हॉट

0
1108

[dciframe]http://cf.datawrapper.de/Ra8ef/1/,420,400,1,no,border:3px solid blue;align:left;[/dciframe]

चार्ट पर नजर डालिये। पहले तीन पायदान पर मारुति, हुंडई और महिन्द्रा काबिज हैं और सुरक्षित भी। टाटा मोटर्स महिन्द्रा से पिछडक़र चौथे स्थान पर खिसक चुकी है और अंतर भी कोई थोड़ा-बहुत नहीं, पूरे 90 हजार यूनिट्स की लीड है। टाटा मोटर्स के लिये इस लीड को पाटना आने वाले 2-3 सालों तक संभव नहीं लग रहा है। हां इतना जरूर है कि नैनो की नई सिटी कार ब्रांडिग और कुछ ही महिनों में बोल्ट और ज़ेस्ट के नाम से नये मॉडल आने से हो सकता है यह लीड कुछ घट जाये।

टॉप सिक्स में होन्डा की मौजूदगी से कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिये। कम्पनी बेहद कमजोर दो सालों को पीछे छोड़ अब ग्रोथ फेज में है। पिछले वर्ष अप्रेल में आये कम्पनी के भारत में पहले डीजल मॉडल अमेज की शुरुआती साल में ही 77 हजार यूनिट्स बिक चुकी हैं। कम्पनी ने हाल ही राजस्थान के टपूकड़ा संयंत्र में उत्पादन शुरू किया है और इसके साथ ही कुल उत्पादन क्षमता 1.20 लाख से बढक़र 2.40 लाख हो गई है। इसका फायदा पिछले दो महिनों के डिस्पैच में भी नजर आ रहा है और कम्पनी अब डिमांड के हिसाब से उत्पादन करने की स्थिति में है। दिवाली के बाद आई नई सिटी के डिस्पैच जनवरी में शुरू हुये थे और कम्पनी शुरुआती तीन महिनों में ही करीब 24 हजार सिटी बाजार में उतार चुकी है। मार्च में होन्डा ने 9518 सिटी के डिस्पैच किये जो 8-12 लाख रुपये के सैगमेंट के लिये कोई छोटी बात नहीं है।

टाटा और होन्डा के बाद जो टॉप-6 के मुकाबले में जो कम्पनी है वो है टोयोटा। कम्पनी ने पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान कुल 1,28,811 गाडिय़ां बेची हैं और इस लिहाज से यह होन्डा से छह हजार और टाटा से दस हजार गाडिय़ां पीछे छूट गई। लेकिन मार्च की शुरुआत से कम्पनी के बिदाड़ी संयंत्र में कर्मचारी हड़ताल पर है जिसके चलते मार्च के ईयर एंड का फायदा नहीं उठा पाई। वित्तीय वर्ष के आखिरी महिने मार्च में इनोवा जैसे कमर्शियल नेचर के मॉडलों की डेप्रीसियेशन बेनेफिट के कारण अच्छी मांग होती है। टोयोटा की दिक्कत उसके दो मास मॉडलों ईटिओस और लीवा का कड़े मुकाबले में फंसा होना भी है।
आने वाले महिनों में होन्डा की मोबिलियो आने वाली है। अमेज़ के प्लेटफॉर्म पर तैयार मोबिलियो को कम्पनी मारुति अर्टीगा वाले 7-सीटर एमपीवी सैगमेंट में पेश करेगी। अब तक कम्पनी ने भले ही इसकी कीमत के कोई संकेत नहीं दिये हों लेकिन माना जा रहा है कि इसकी कीमत सात लाख रुपये से कम से शुरू होगी। चूंकि कम्पनी का फोकस पिछले एक वर्ष में बेहद आक्रामक कीमत पर स्टायलिश पैकेज देने पर है ऐसे में मोबिलियो भी आने वाले साल में नई अमेज और सिटी की तरह बेस्ट सेलर साबित हो सकती है। हां जैज़ के लिये अपनी पुरानी पहचान से बाहर निकलना कोई आसान नहीं होगा।
दूसरी ओर टाटा मोटर्स के अपकमिंग लॉन्च बोल्ट और ज़ेस्ट तक सीमित हैं। ऐसे में मोबिलियो और जैज़ से होन्डा को जो इन्क्रीमेंटल लीड मिलेगी उसे टाटा के लिये पाटना बेहद मुश्किल होगा। यानि टॉप-4 की होड़ में होन्डा का दावा सबसे मजबूत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here