टीवीएस जुपिटर: फीचर रिच कूल डूड

0
1749

TVS-Jupiter-110cc

सुजुकी से अलग होने के बाद के 12 वर्ष टीवीएस के लिये बेहद अहम रहे हैं। कम्पनी ने अलग-अलग सैगमेंटों में कई बार नये प्रयोग किये हैं। हमारा बजाज जब बंद होने के कगार पर था तब टीवीएस ने स्कूटी के जरिये महिलाओं के सपनों को नई उड़ान दी। आज कम्पनी ब्रांड, बिजनस, आर एंड डी और पोर्टफोलियो के लिहाज से महारथी बन चुकी है। पिछले 12 वर्ष में की गई मेहनत का ही नतीजा है कि बीएमडब्ल्यू मोटोरैड को जब भारत में इंजीनियरिंग रूप से मजबूत सहारे की जरूरत महसूस हुई तो उसके सामने टीवीएस ही अकेला विकल्प था।
कम्पनी के पोर्टफोलियो में स्कूटर, बाइक के आधा दर्जन से ज्यादा मॉडल हैं। फ्रूगल इंजीनियरिंग के जरिये वैल्यू फोर मनी गाडिय़ां बनाने वाली टीवीएस देश की अकेली कम्पनी है जो मोपेड के जरिये लो कॉस्ट फंक्शनल मोबिलिटी को ग्रामीण और छोटे शहरों के कम बजट में खुद का काम धंधा करने वालों तक पहुंचा रही है।
पिछले दो सालों से स्कूटर सैगमेंट में मेल कैटेगरी का तेजी से विकास हुआ है और इसी में कम्पनी ने नया मॉडल जुपिटर लॉन्च किया है। वैसे जुपिटर सबसे बड़ा ग्रह है जिसे बृहस्पति या गुरू भी कहते हैं। माना जाता है कि इंसान की शख्सियत और उसके हाथों की बरकत इसी गृह के असर से तय होती है।
डिजायन: जुपिटर को एक नजर देखते हैं तो चेहरे पर मुस्कान सी आ जाती है। चारों ओर चक्कर लगाइये आपको जगह-जगह ताजगी का अहसास होगा। फ्रंट साइड पर आइये डिजायन थीम बेहद डायनामिक और स्टायलिश नजर आयेगी। क्लीयरलेंस हैडलैम्प से लेकर डायनामिक काउल, नॉक और मडगार्ड तक सबकुछ आपको बेहद करीने से तराशा महसूस होगा। इसकी डिजायन को कम्पनी ने बेहद फंक्शनल रखने की कोशिश की है और क्रेश प्रोन हिस्से जैसे कि फ्रंट मडगार्ड और साइड बॉडी पैनल मैटल से बने हैं जबकि नॉक और काउल को एफआरपी से बनाया गया है। मीटर कंसोल को देखें तो भले ही यह  एनेलॉग हो लेकिन इसमें काफी ऐसे फीचर्स डाले गये हैं जो आपको बेहद सुविधाजनक लगेंगे। स्पीडोमीटर के साथ ही मीटर कंसोल में फ्यूल गेज भी है, इसके अलावा लो फ्यूल अलर्ट दिया गया है। इसमें एक बेहद खास फीचर है और वो है ईकोनोमीटर। मीटर डायल के बायीं ओर आपको इकोनॉमी और पावर मोड के लाइट अलर्ट नजर आयेंगे। इससे आपको यह अंदाजा होता रहेगा कि गाड़ी किस मोड में चल रही है। इकोनॉमी मोड में मायलेज अच्छा मिलेगा और पावर मोड में पावर ज्यादा मिलेगा। इससे आपको अपनी ड्राइविंग स्टाइल सुधारने में भी मदद मिल सकती है। साइड प्रोफाइल पर नजर डालें तो यह बेहद स्टायलिश और डायनामिक नजर आता है। फुट रेस्ट से लेकर सीट और ग्रेब रेल सबकुछ डिजायन थीम से मेल खाते हैं। पीछे की ओर आपको थोड़ा झटका सा लगेगा। टेल लैम्प के ऊपर की ओर एक बल्ज सा है। एक नजर देखने पर आपको पता भी नहीं चलेगा कि ये क्या है लेकिन यह दरअसल फ्यूल इनलेट है। हेल्मेट बॉक्स में चाबी लगाकर उसे लेफ्ट साइड घुमाइये, फ्यूल कैप खुल जायेगी। इससे आपको फायदा यह होगा कि फ्यूल लेने के लिये स्कूटर से उतर कर सीट खोलने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
कम्फर्ट एंड ड्राइव: जुपिटर को आप बेहद आरामदेह सवारी मान सकते हैं। वीगो वाले लम्बे प्लेटफॉर्म के चलते जुपिटर का बैलेन्स बहुत अच्छा है। हैंडलबार की मैनुवरिंग सुविधाजनक और सुरक्षित है। सीट बैक और थाई को सपोर्ट करती है। सिटिंग पोश्चर अपराइट है। एक बात और इसे मेन स्टैंड पर लगाना बहुत आसान है और खड़ा करने के लिये पीछे की ओर खींचने की जरूरत नहीं पड़ती। जुपिटर में आपको पास-बाई स्विच भी हैंडलबार में मिल जायेगा जिससे ओवरटेकिंग, खासकर रात के समय बेहद सुरिक्षत हो जाती है। लेग स्पेस बहुत अच्छा है और कम्पनी का दावा है कि आप फुट बोर्ड पर गैस का सिलिंडर तक लिटाकर ले जा सकते हैं। जुपिटर में आपको दो बैग हुक मिलेंगे। सीट के नीचे के अलावा हैंडल पर भी एक रिट्रेक्टेबल बैग हुक दिया गया है जहां आप अपना हैंडबैग लटका सकते हैं। हेलमेट बॉक्स में अच्छी-खासी जगह है, साथ ही इसमें मोबाइल चार्जर के लिये भी प्रोविजन किया गया है। जिसे आप एक्सेसरी की तरह आफ्टरमार्केट लगवा सकते हैं। जहां तक बात है ड्राइव की तो जुपिटर को बेहतरीन पैकेज माना जा सकता है। राइड और हैंडलिंग अच्छी है ब्रेकिंग को ठीक कहा जा सकता है। फ्रंट टेलीस्कोपिक और रियर गैस चार्ज शॉक एब्जॉर्बर के कारण ऊबड़-खाबड़ रास्तों पर भी हैंडलिंग अच्छी रहती है।
इंजन: जुपिटर में 110 सीसी का इंजन लगा है। सीवीटी-आई तकनीक से लैस इस इंजन से 8 बीएचपी पावर और 8 न्यूटन मीटर का टॉर्क मिलता है जो अर्बन ड्राइविंग के लिये बहुत है।  इंजन का थम्प बाइक का सा अहसास देता है और ट्यूनिंग इतनी अच्छी है कि आपको जितनी पावर चाहिये, मिल जाती है। कम्पनी ने 62 किमी. के मायलेज का दावा किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here