टाटा ज़ेस्ट कहीं नैनो के रास्ते पर तो नहीं?

0
1114

ZEST

कॉम्पेक्ट सेड़ान ज़ेस्ट को आये 6 महिने हो चुके हैं। इस मॉडल को टाटा मोटर्स के लिये कमबैक मॉडल माना जा रहा था लेकिन अब लगने लगा है कि यह भी नैनो की राह पर बढ़ रही है।
इन 6 महिनोंं में टाटा मोटर्स ने कुल 18624 ज़ेस्ट बेची हैं जो मारुति डिज़ायर की एक महिने की बिक्री के करीब-करीब बराबर है। हालांकि कहा यह भी जा सकता है कि डिज़ायर सात साल से मौजूद है और बेस्ट सेलर मॉडलों में शुमार है ऐसे में ज़ेस्ट से इसकी तुलना ठीक नहीं है। लेकिन ह्यूंदे एक्सेंट को आये एक साल ही हुआ है और ज़ेेस्ट महिने की औसत बिक्री में इसका भी मुकाबला नहीं कर पा रही है। हालांकि ज़ेस्ट अक्टूबर और नवम्बर में होन्डा अमेज़ को पीछे छोडऩे में कामयाब रही थी लेकिन अमेज़ ने दिसम्बर में वापसी की और जनवरी व फरवरी में ऊंची छलांग लगाई। वहीं टाटा ज़ेस्ट नवम्बर में 3835 यूनिट्स के पीक स्तर तक पहुंची थी और उसके बाद दिसम्बर, जनवरी और फरवरी में इसकी बिक्री में लगातार गिरावट आई है। जनवरी में 2757 ज़ेस्ट बिकी थीं जबकि 2 हजार नैनो। फरवरी में ज़ेस्ट का सेल्स वॉल्यूम 2121 यूनिट्स के ऑल टाइम निचले स्तर पर पहुंच गया।
zestयहां ज़ेस्ट और नैनो में एक बात कॉमन नज़र आती है और वो है शुरूआत में दोनो ही मॉडल कस्टमर के दिल में उतरने और सुर्खियां बंटोरने में कामयाब रहे लेकिन धीरे-धीरे इनकी हवा निकलती गई। 25 हजार यूनिट्स महिने के टार्गेट के साथ आई नैनो साल में भी इस टार्गेट तक नहीं पहुंच पा रही है। ज़ेस्ट में जिस तरह महिने दर महिने गिरावट आ रही है उससे लगता है कि यह भी नैनो के रास्ते आगे बढ़ रही है।
प्राइसवॉटर हाउस कूपर्स के ऑटो कन्सल्टेंट अब्दुल मजीद के अनुसार आजकल नये मॉडल की चमक दो साल में ही फीकी पड़ जाती है ऐसे में कम्पनी के लिये ज़ेस्ट में ग्राहकों की रुचि बरकरार रखना बहुत अहम है। वैसे भी कॉम्पेक्ट सेडान सैगमेंट में बिक्री बढ़ रही है ऐसे में कम्पनी के लिये यहां कामयाब होना बहुत जरूरी है।
हालांकि 6 महिनों में ज़ेस्ट से जो हासिल हुआ है उसे बिल्कुल नकारा भी नहीं जा सकता। यह टाटा मोटर्स की डीलरशिप्स पर सॉफ्ट प्रॉफाइल वाले, यंग और फैमिली कस्टमर को खींचकर लाने में कामयाब रही है और इसका असर कम्पनी की बिक्री में हो रहे सुधार से साफ नजर भी आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here