जेडी पावर: मारुति और ह्यूंदे के दो-दो मॉडल सैगमेंट में अव्वल

0
986

J.D.-Power-IQS-2014-India

जेडी पावर 2014 इंडिया इनीशियल क्वॉलिटी स्टडी में मारुति ऑल्टो एंट्री सैगमेंंट में अव्वल रही है वहीं प्रीमियम कॉम्पेक्ट सैगमेंट में स्विफ्ट ने बाजी मारी है। दूसरी ओर हुंडई की आई-10 और एक्सेंट अपने-अपने सैगमेंट में अव्वल रही हैं। इस तरह देश की दो सबसे बड़ी कम्पनियों के बीच टाई हुआ है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2010 से 2014 के बीच डीजल गाडिय़ों की डिमांड तेजी से बढ़ी है और इसी दौर में डीजल गाडिय़ों की क्वॉलिटी को लेकर कस्टमर की शिकायतों में भी बड़ी कमी आई है इसका सीधा अर्थ है कि बिक्री के साथ ही डीजल गाडिय़ों की क्वॉलिटी भी बेहतर हो रही है।
जेडी पावर आईक्यूएस में नई गाड़ी खरीदने के छह महिने के भीतर 8 कैटेगरी में इंजन व ट्रान्समिशन, एसी-हीटर, डिजायन, इंटीरियर, फीचर्स, कंट्रोल व डिस्प्ले, सीट, ऑडियो व नेवीगेशन और ड्राइविंग एक्सपीरियंस आदि में 200 बिंदुओं को लेकर ग्राहक की शिकायतों का आंकलन किया जाता है। इसमें हर 100 गाडिय़ों यानि 100पीपी पर शिकायतों के आधार पर स्कोर रेटिंग दी जाती है। मॉडलों का स्कोर जितना कम आता है उनकी क्वॉलिटी को लेकर शिकायतों के मामले उतने ही कम होते हैं।
जेडी पावर आईक्यूएस की ताजा रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2010 में डीजल गाडिय़ों का स्कोर 100 पीपी पर 148 था यानि हर 100 गाडिय़ों में 148 शिकायतें थीं जो 2014 में घटकर 96 रह गईं। इस दौरान डीजल गाडिय़ों के औसत चलने में भी 22 फीसदी की कमी आई है।
जेडी पावर एशिया-प्रशांत के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर मोहित अरोड़ा के अनुसार पिछले वर्ष 100पीपी पर 115 शिकायतें दर्ज की गई थीं जो 2014 की रिपोर्ट में घटकर 100पीपी100 रह गईं। शिकायतों में सबसे ज्यादा कमी इंजन और ट्रान्समिशन को लेकर दर्ज की गई हैं।
अपर कॉम्पेक्ट सैगमेंट में होन्डा ब्रिओ 100पीपी पर 40 शिकायतों के साथ अव्वल रही वहीं एंट्री मिडसाइज़ में मारुति डिज़ायर और टोयोटा ईटिओस को पीछे छोड़ ह्यूंदे एक्सेंट ने बाजी मारी। मिड साइज़ सैगमेंट में स्कोडा रैपिड का स्कोर 100पीपी पर 51 रहा और इस तरह यह होन्डा सिटी और फोक्सवैगन वेंतो को मात देकर सबसे आगे रही। एमपीवी/एमयूवी सैगमेंट में क्वॉलिटी के लिहाज से टोयोटा इनोवा को सालों से कोई भी मॉडल चुनौती नहीं दे पा रहा है। इनोवा का स्कोर 100पीपी पर 64 रहा और यह मारुति अर्टीगा और शेवरले एंजॉय से बेहतर साबित हुई। एसयूवी सैगमेंट में रेनो डस्टर को पीछे छोड़ फोर्ड ईकोस्पोर्ट सबसे आगे रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here