जीएम इंडिया की ट्रेलब्लेज़र एसयूवी और स्पिन एमपीवी लाने की तैयारी

0
1185

x

जनरल मोटर्स इंडिया ने पिछले ढ़ाई साल में सेल युवा, सेल सेडान और एंजॉय एमपीवी आदि तीन मॉडल पेश किये हैं। लेकिन इसके बावजूद कम्पनी की सेल्स लगातार रिवर्स गियर में है। कम्पनी अब ग्रोथ के नये दौर की तैयारी कर रही है और दो नये मॉडल लॉन्च करने की घोषणा की है।
कम्पनी ने पिछले ऑटो एक्स्पो में ट्रेलब्लेज़र के नाम से एसयूवी मॉडल डिस्प्ले किया था जो इसी साल लॉन्च हो जायेगा। जनरल मोटर्स अगले वर्ष एमपीवी सैगमेंट में एक अन्य मॉडल स्पिन को भी लॉन्च करेगी।
अभी पिछले सप्ताह कम्पनी ने बैंकॉक में डीलर मीटिंग में इन दो मॉडलों के लॉन्च प्लान की जानकारी दी थी।
जीएम इंडिया के प्रेसिडेंट और एमडी अरविंद सक्सेना के अनुसार कम्पनी का फोकस भारत में प्रॉडक्ट क्वॉलिटी और सेल्स एक्सपीरियंस को बेहतर कर अपनी पहुंच बढ़ाने पर है।
लेकिन ट्रेलब्लेज़र से जीएम इंडिया के हालातों में कोई बड़ा बदलाव हो पायेगा इसकी उम्मीद कम ही है क्योंकि यह टोयोटा फॉच्र्यूनर, फोर्ड एंडेवर, ह्यूंदे सांता फे के सैगमेंट में पोजिशन की जायेगी और बेहद नीश इस सैगमेंट में वॉल्यूम हासिल करना कम्पनी के लिये बहुत मुश्किल होगा।
विदेशों में ट्रेलब्लेज़र 2.8 लीटर 180 बीएचपी और 2.5 लीटर 150 बीएचपी के इंजन ऑप्शन में बिकती है। हालांकि कम्पनी ने अभी यह नहीं बताया है कि भारत मेें ये दोनों इंजन ऑप्शन बेचे जायेंगे या कोई एक। साथ में एक सवाल और भी कि कम्पनी ट्रेलब्लेज़र के साथ कैप्टिवा को भी बेचेगी या बंद कर देगी।
माना जा रहा है कि कम्पनी ट्रेलब्लेज़र को सीकेडी असेम्बली के जरिये बेचेगी जिससे यह कीमत के मुकाबले में शामिल हो पायेगी।
xx

एंजॉय को मिले बेहद कमजोर रेस्पॉन्स के बाद जीएम इंडिया एमपीवी सैगमेंट में अगले साल स्पिन के नाम से नया मॉडल पेश करेगी। रेनो अगले दो महिने में लॉजी के पेश कर रही है वहीं मारुति अर्टीगा और होन्डा मोबिलियो आदि मॉडल पहले से मौजूद हैं।
स्पिन एमपीवी जीएम के गामा-11 प्लेटफॉर्म पर आधारित है और बीट सहित कई मॉडल इसी पर बने हैं। विदेशी बाजारों में कम्पनी स्पिन को 1.2 लीटर पेट्रोल, 1.5 लीटर पेट्रोल और 1.3 लीटर डीजल इंजन के साथ बेच रही है। कम्पनी ने एंजॉय को मई 2013 में लॉन्च किया था। इसकी शुरूआत तो ठीक थी और हर महिने औसत 1 हजार यूनिट्स बिक रही थीं लेकिन पिछले छह-आठ महिने में इसकी सेल्स गिरकर 500-600 यूनिट्स ही रह गई है। जबकि एमपीवी सैगमेंट सबसे तेज रफ्तार से बढ़ रहा सैगमेंट है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here