चीन को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट

0
717

Yamaha sportsचीन दुनिया का सबसे बड़ा कार मार्केट है लेकिन स्कूटर और मोटरसाइकल्स की सेल्स के मामले में चीन को पीछे छोड़ भारत दुनिया का सबसे बड़ा मार्केट बनने में कामयाब रहा है। पिछले कई सालों से भारत में टू-व्हीलर सेल्स जहां बढ़ रही है वहीं चीन में यह मार्केट सिकुड़ रहा है।
सियाम की रिपोर्ट कहती है कि 2016 में भारत में जहां 1.77 करोड़ टू-व्हीलर बिके वहीं चीन में 1.68 करोड़। इस तरह चीन को पीछे छोड़ भारत दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट बनने में कामयाब रहा है। भारत में 1.77 करोड़ टू-व्हीलर की सेल्स में 50 लाख से ज्यादा अकेले स्कूटर थे। वहीं 100-110 सीसी की कम्यूटर मोटरसाइकल्स की सेल्स 65 लाख रही थी।
यूरोप और अमेरिका के साथ ही जापान जैसे बड़े टू-व्हीलर मार्केट्स में हाल के सालों में आई गिरावट का ही असर है कि दुनिया की ज्यादातर मास और नीश टू-व्हीलर कम्पनियां भारत में प्लांट लगा चुकी हैं जिनमें होन्डा, सुजुकी, यामहा, कावासाकी, हार्ले डेविडसन और ट्रायम्फ प्रमुख हैं। ब्रिटेन की बाइक कम्पनी ट्रायम्फ ने हाल ही बजाज ऑटो के साथ मिडसैगमेंट की बाइक्स डवलप करने के लिये एक समझौता किया है। तीन साल पहले ऐसा ही समझौता टीवीएस मोटर और बीएमडबल्यू मोटोरैड के बीच भी हो चुका है।
चीन में हाल के सालों में टू-व्हीलर सेल्स में आई गिरावट का बड़ा कारण करीब 200 बड़े शहरों में इनके सडक़ों पर चलने पर पाबंदी लगना है। साथ ही नियम भी बहुत कड़े हैं और मोटरसाइकल इम्पोर्ट करना इतना आसान नहीं है। इसके अलावा चीन में लोकल कम्पनियों की कारें बहुत सस्ती हैं जो मोटरसाइकल मार्केट के लिये बड़ा खतरा साबित हो रही हैं।
करीब साठ लाख यूनिट्स की सेल्स के साथ इंडोनेशिया दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here