कार बिक्री 5-10 फीसदी बढऩे की उम्मीद: सियाम

0
768

JULY SIAM SALES

जुलाई के सेल्स फिगर ने कार इंडस्ट्री में जोश लौटा दिया है। वाहन निर्माताओं की एसोसियेशन सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर कहते हैं कि जुलाई लगातार तीसरा महिना है जब कारों की बिक्री बढ़ी है। ऐसे में वित्तीय वर्ष 2014-15 का अंत 5-10 फीसदी की बढ़त के साथ होने की उम्मीद है। निगेटिव सेंटिमेंट अब ठंडा पड़ रहा है और डीलर आउटलैट्स पर फुलफॉल बढ़ता नजर आ रहा है। जैसे-जैसे इकोनॉमी में सुधार होगा आने वाले महिनों में इंडस्ट्री की रफ्तार भी बेहतर होगी।
ऑटो कम्पनियां फेस्टिव सीजन की तैयारियां शुरू कर चुकी हैं। जुलाई के आखिर से नये लॉन्च होने लगे हैं और अगस्त में हर सप्ताह नई गाड़ी आ रही है। अगस्त से नवम्बर के बीच कोई डेढ़ दर्जन नये मॉडल आने हैं और इनसे कस्टमर को शोरूम तक खींचकर लाने में मदद मिलेगी। नतीजतन बिक्री में भी इसका असर दिखाई देगा। माथुर के अनुसार हालातों ने जो करवट ली है उससे लगता है कि बिक्री ज्यादा नहीं तो कम से कम सिंगल डिजिट में तो बढ़ेगी ही।
देर से ही सही लेकिन मानसून देशभर में सक्रिय है और घाटे की भरपाई एक हद तक हो चुकी है। इससे भी रूरल इकोनॉमी को बूस्ट मिलेगा और इसका फायदा ऑटो इंडस्ट्री को भी होगा।
माथुर कहते हैं कि नई सरकार ने एक्साइज में छूट को दिसम्बर तक बढ़ाया है। इसके अलावा आयकर में भी कुछ बदलाव किये गये हैं जिससे ग्राहक के हाथ में खर्च करने लायक पैसा बढ़ेगा। हालांकि सीवी यानि कमर्शियल गाडिय़ों के सैगमेंट के हालात अभी भी चिंताजनक हैं लेकिन जिस रफ्तार से देश में मैन्यूफैक्चरिंग और इकोनॉमी के हालातों में सुधार हो रहा है 5-6 महिने में ट्रक-बस की बिक्री के भी पटरी पर लौट आने की शुरूआत हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here