1956 में बनी Pingle है पहली मेड इन इंडिया कार

0
29

first made in India car

भारत में बहुत कम लोगों को यह पता होगा कि पहली मेड इन इंडिया कार Pingle थी। Pingle को हैदराबाद के इंजीनियर पिंगल मधुसुदन रेड्डी ने डिजायन किया था पचास के दशक में। 1956 में बनी इस कार को तब के प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू ने भी देखा था और इसके प्रोटोटाइप कुछ साल तक हैदराबाद की सडक़ों पर चलते नजर आते थे।

हैदराबाद निजाम के पोते मुकर्रम जहां Pingle का उत्पादन करने के लिये प्लांट लगाना चाहते थे लेकिन माना जाता है उन्हें इसके लिये केंद्र सरकार से लायसेंस नहीं मिला।

बाद में Pingle को बैंगलुरू स्थित हिंदुस्तान एअरोनॉटिक्स की लैब में डिस्प्ले किया गया।
Pingle के पीछे की सोच बिल्कुल वही थी जो टाटा नैनो को डिजायन करने के पीछे थी। पिंगल को उस दौर के टू-व्हीलर वालों के लिये डिजायन किया गया था। यदि Pingle कभी मैन्यूफैक्चरिंग के लेवल तक पहुंचती तो इसकी 7 हजार यूनिट्स बनाई जातीं और इसकी कीमत होती 4600 रुपये।

इस लो-कॉस्ट कार Pingle में बहुत कम मूविंग पार्ट थे और उन्हें थी उस दौर में हाईटेक सैटअप में बनाने का प्लान था जिससे इसकी कॉस्ट कम आती।

Pingle में 2-स्ट्रोक का 2-सिलिंडर पेट्रोल इंजन था जिससे 7 बीएचपी पावर जेनरेट होती थी। आज से 60 साल पहले डिजायन की गई इस पहली मेड इन इंडिया कार की बॉडी फाइबर से बनी थी जिससे इसका बॉडी वेट भी कम था और लागत भी।

वैसे तो पहली हिंदुस्तानी कार एम्बेसेडर को माना जाता है। हिंदुस्तान मोटर्स ने एम्बेसेडर कार को 1958 में लॉन्च किया था। लेकिन यह मेड इन इंडिया कार नहीं थी बल्कि यह ब्रिटिश मॉडल मॉरिस ऑक्सफर्ड पर आधारित थी। एम्बेसेडर 2014 तक चलती रही और कई बार इंजन बदलने के बावजूद इसके बॉडी डिजायन में मामूली ही फेरबदल हुये थे।Image and Story Credit: The Times Of India 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here