Airbag Defect : 1200 Jeep Compass होंगी रीकॉल

Jayem Neo
Jayem Neo के नाम से आ रहा है Tata Nano का इलेक्ट्रिक अवतार
November 23, 2017
Vios Sedan
Honda City के मुकाबले आ रही है Toyota Vios सेडान
November 27, 2017
Compass Jeep

compass jeepअभी तीन महिने पहले आई Jeep Compass एक ओर कस्टमर से मिल रहे रेस्पॉन्स से उत्साहित है दूसरी ओर उसे रीकॉल के झटके से गुजरना पड़ रहा है। कम्पनी ने कहा है कि Airbag में डिफेक्ट के कारण 1200 Jeep Compass रीकॉल कर रही है।

कॉम्पेक्ट एसयूवी Jeep Compass बनाने वाली कम्पनी फिएट क्राइस्लर ऑटोमोबाइल्स के अनुसार 5 सितम्बर से 19 नवम्बर तक बनी 1200 जीप कम्पास के फ्रंट पैसेंजर साइड Airbag में डिफेक्ट है। एफसीए ने 22 नवम्बर को ग्लोबल मार्केट से 8 हजार गाडिय़ां रीकॉल करने की बात कही है भारत में किया जा रहा रीकॉल भी इसी ग्लोबल मुहिम का हिस्सा है।

दरअसल Airbag बनाने वाली कम्पनी ने एफसीए को बताया है कि Airbag मॉड्यूल की असेम्बली के दौरान कुछ फास्टनर्स (नट-बोल्ट) शायद ढीले छूट गये हैं। यदि ऐसी गाडिय़ों मेें Airbag खुलता है तो ढीले फास्टनर्स से चोट लगने का खतरा हो सकता है।

इसके चलते एफसीए इंडिया ने 1200 Jeep Compass में फ्रंट पैसेंजर Airbag को रिप्लेस करने की घोषणा की है। कम्पनी ने कहा है कि उसने कस्टमर्स को कहा है जब तक गाड़ी ठीक नहीं हो जाती फ्रंट पैसेंजर का इस्तेमाल ना करें।

एफसीए ने Jeep Compass को 31 जुलाई को लॉन्च किया था और पहले तीन महिने में कम्पनी करीब 7500 गाडिय़ां बेच चुकी है।

कम्पनी ने राइट हैंड ड्राइव मार्केट्स के लिये भारत को Jeep Compass का ग्लोबल मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाया है और अभी पिछले महिने ही मेड इन इंडिया कॉम्पेक्ट एसयूवी की पहली 600 यूनिट्स की कन्साइनमेंट जापान और ऑस्ट्रेलिया को भेजी है।

Jeep Compass एफसीए के पुणे के निकट रांजनगांव प्लांट में बन रही है। भारत के अलावा यह कॉम्पेक्ट एसयूवी ब्राज़ील, मेक्सिको और चीन में ही बन रही है।

कम्पनी ने Jeep Compass को भारत में 15.16 लाख रुपये की शुरुआती प्राइस पर लॉन्च किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>