मिस्ड कॉल साबित हो रहा है Nissan के लिये Datsun ब्रांड

0
35

निसान इंडिया की ओर से मार्केटिंग मैसेज मिला है। कहा गया है 

Buy Datsun Go on EMI now with interest rates as low as 5.99%. To know more, give a missed call on +917533006808. Terms & Conditions Apply. 

यानि डेटसन गो कार खरीदें अब 5.99 फीसदी ब्याज दर पर। ज्यादा जानकारी के लिये इस नम्बर पर मिस्ड काल दें। लेकिन पिछले 11 महिने में डेटसन की जो सेल्स परफॉर्मेन्स रही है उससे लगता है कि निसान का डेटसन ब्रांड को 30 बाद फिर से खड़ा करने का फैसला खुद एक मिस्ड कॉल जैसा ही है।
z

डेटसन ब्रांड के लिये कम्पनी ने जो नारा दिया है वो है….एक नई परम्परा। टीवी विज्ञापन में गो व गो+ को मारुति वैगन-आर के मुकाबले दिखाया गया है यानि कम्पनी भारत में कम्प्लीट फैमिली कार की वैगन-आर परम्परा को बदलना चाहती है। लेकिन डेटसन ब्रांड को आये 11 महिने हो चुके और इन 11 महिनों में कम्पनी ने गो और गो+ मिलाकर कुल करीब 15 हजार डेटसन गाडिय़ां बेची हैं जबकि इतनी वैगन-आर तो एक महिने में ही बिक जाती हैं और वो भी तब जब इसे लॉन्च हुये 15 साल से ज्यादा हो चुके।
दिसम्बर में तो गो की सिर्फ 455 यूनिट्स ही बिकीं। गो+ के 249 यूनिट्स के डिस्पैच मिलाकर आंकड़ा 704 यूनिट्स तक पहुंचा था।
निसान इंडिया के प्रेसिडेंट गुलॉमे सिकार्ड कहते हैं कि “It is time for a new car. “We are very happy about what’s going on in India with the brand. So far, customers are very happy (with the Datsun brand). There is also a high level of satisfaction when it comes to driving, fuel efficiency and safety,” says Sicard.”

डेटसन ब्रांड के लिये निसान की पूरी स्ट्रेटेजी लो कॉस्ट प्राइसिंग के इर्द-गिर्द रही है लेकिन टाटा नैनो के मामले में यही रणनीति बैकफायर कर चुकी है। नैनो के जरिये टाटा मोटर्स ने बिल्कुल नये सैगमेंट की शुरूआत की थी और इसके मुकाबले कोई और प्रॉडक्ट नहीं था लेकिन गो का मुकाबला ऑल्टो800, ऑल्टो के10, ईऑन, वैगन-आर जैसे कामयाब और बेस्ट सेलर मॉडलों से हैं।
डेटसन भले ही दुनिया में किसी जमाने में जाना-माना नाम रहा हो लेकिन भारत में गिने-चुने लोग ही इसके बारे में जानते हैं ऐसे में ब्रांड पहचान का भी सवाल है। जबकि इसके मुकाबले मारुति ने 32 साल में और हुंडई ने 18 साल में कस्टमर को ध्यान में रखते हुये प्रॉडक्ट पेश कर ब्रांड लॉयल्टी कमाई है।
सिकार्ड कहते हैं कि कम्पनी डेटसन ब्रांड के सेल्स वॉल्यूम को 50 हजार यूनिट्स तक पहुंचाने का लक्ष्य लेकर चल रही है और इस स्तर तक पहुंचने में समय लगेगा। लेकिन जिस तेजी से प्रॉडक्ट लाइफ साइकल घट रहा है और नये कामयाब मॉडल चमक खो रहे हैं उससे प्रॉडक्ट लॉन्चिंग से पहले के मीडिया बज़ की अहमियत बहुत ज्यादा बढ़ गई है। डेटसन के मामले में निसान यहां भी चूक गई लगती है।
रूस में निसान डेटसन ब्रांड के तले सेडान कार भी बेच रही है लेकिन भारत में अगले वर्ष रेडी गो यूवी को लॉन्च करेगी। सिकार्ड के अनुसार कम्पनी का मार्केट शेयर अभी 3 प्रतिशत है जिसे पहले चार और फिर बढ़ाकर 6 फीसदी करने का लक्ष्य है और इसमें नये मॉडल से मदद मिलेगी।
लेकिन सिकार्ड को भरोसा है कि गो+ अच्छी चलेगी। अफोर्डेबल कीमत के कारण यह उन लोगोंं को पसंद आयेगी जो वैल्यू, स्पेस, स्टाइल और फ्लेक्सिबिलिटी चाहते हैं। कॉम्पेक्ट एमपीवी के रूप में गो+ ने नये सैगमेंट को तैयार किया है। हम परम्परा तोड़ रहे हैं।

लेकिन लगता है कम्पनी डेटसन ब्रांड को जमाने के लिये बहुत अग्रेसिव प्राइसिंग और ब्याज पर छूट जैसे तरीके को अपनाकर नई परम्परा शुरू कर रही है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here