मारुति स्विफ्ट और डेटसन गो एनकैप सेफ्टी टेस्ट में फेल

0
27

Datsun-Go-Launched

प्रीमियम कॉम्पेक्ट हैचबैक सैगमेंट में बेस्ट सेलर मॉडल मारुति स्विफ्ट और डेटसन की गो एनकैप सेफ्टी क्रेश टेस्ट में फेल हो गई हैं। लेकिन कम्पनियों ने कहा है कि वे भारत में लागू सभी मानकों का पालन करती हैं। एनकैप की क्रेश टेस्ट रिपोर्ट में कहा गया है कि डेटसन गो और मारुति स्विफ्ट को वयस्क पैसेंजर सुरक्षा के लिहाज ज़ीरो रेटिंग मिली है और इनसे जीवन को खतरा पैदा करने वाली चोट लगने की आशंका बहुत ज्यादा है। यदि फ्रंटल और साइड इम्पेक्ट के यूएन मानकों का पालन किया जाये तो जोखिम बहुत घट सकता है।
मारुति सुजुकी ने कहा है कि वह भारत में लागू सभी मानकों का पालन करती है। साथ ही निर्यात के लिये बनी कारें विभिन्न देशों में लागू सुरक्षा मानकों के अनुरूप होती हैं।
दूसरी ओर निसान इंडिया के नये प्रमुख गुइलॉमे सिकार्ड ने बयान जारी कर कहा है कि डेटसन गो भारत में अनिवार्य सभी वाहन मानकों का पालन करती है। तेजी से उभरते बाजारों में ऑटोमोटिव रेगुलेशन स्टेन्डर्ड अभी विकसित हो रहे हैं और कम्पनी सभी मानकों का पालन करने के साथ ही सुरक्षा मानकों के विकास में मदद करना चाहती है।
एनकैप ने मारुति स्विफ्ट को एडल्ट प्रॉटेक्शन के मामले में ज़ीरो और चाइल्ड प्रॉटेक्शन के मामले में 1 स्टार रेटिंग दी है। वहीं डेटसन गो को अडल्ट प्रॉटेक्शन के लिये ज़ीरो और चाइल्ड प्रॉटेक्शन के लिये 2 स्टार रेटिंग दी है। एनकैप के अनुसार यदि स्विफ्ट में एअरबैग लगा दिया जाये तो अडल्ट प्रॉटेक्शन के लिहाज से इसमें काफी सुधार हो सकता है। वहीं क्रेश टेस्ट के दौरान डेटसन गो की बॉडी को तगड़ा नुकसान हुआ है और यह अनस्टेबल यानि अस्थिर हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here