मारुति मिनीट्रक लॉन्च टला, पहले होगी टेस्ट मार्केटिंग

0
9

Suzuki-Carry-

इतिहास अपने आपको दोहरा रहा है और एक बार फिर मिनीट्रक प्रॉजेक्ट पर मारुति का भरोसा डगमगा रहा है। कम्पनी ने कहा है कि अगले वर्ष की शुरूआत में होने वाले फुल स्केल लॉन्च को टाल दिया गया है। मारुति के सीओओ मार्केटिंग मयंक पारीक के अनुसार शुरुआत में अगले वर्ष जनवरी से मार्च के बीच चुनिंदा बाजारों में इसकी टेस्ट मार्केटिंग या कहें तो पायलट लॉन्चिंग की जायेगी। इससे जो फीडबैक मिलेगा उसके हिसाब से नेशनल लॉन्च पर फैसला किया जायेगा।
यह पहला मौका नहीं है जब मारुति को पूरी तैयारी करने के बाद मिनी ट्रक सैगमेंट से हाथ खींचने पड़े हैं। कम्पनी ने 1982 में कार मॉडल 800 के साथ ही एक मिनीट्रक भी लॉन्च किया था। लेकिन कार को जहां करीब सवा लाख बुकिंग मिलीं वहीं मिनीट्रक को साढ़े तीन हजार ही बुकिंग मिली थीं। इस कमजोर रेस्पॉन्स को देखते हुये कम्पनी ने इस प्रॉजेक्ट को ही ठंडे बस्ते में डाल दिया था।
पारीक के अनुसार यह कम्पनी के लिये बिल्कुल नया मार्केट है ऐसे में मारुति पहले यह समझ लेना चाहती है कि इस प्रॉडक्ट का कस्टमर कौन होगा और उसकी क्या-क्या जरूरतें हैं।
माना जा रहा है कि कम्पनी के इस फैसले के पीछे एलसीवी सैगमेंट के कमजोर मौजूदा हालात हैं। सियाम के ताजा आंकड़ों के अनुसार अप्रेल से अगस्त के बीच देश में कुल 1.31 लाख मिनी ट्रक की बिक्री हुई है जो पिछले वर्ष की इसी अवधि में हुई 1.63 लाख यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले 19 फीसदी कमजोर है। इन मुश्किल हालातों में कम्पनी अपने प्रॉडक्ट के फेल हो जाने की रिस्क नहीं उठाना चाहती। वैसे भी कम्पनी एलसीवी रेंज के लिये अलग डीलर नेटवर्क बनाने की बात कह चुकी है और देशभर में पहुंच लायक नेटवर्क तैयार होने में समय लगेगा।
इस मिनी ट्रक को मारुति 800 सीसी डीजल के साथ सीएनजी वैरियेंट में भी पेश करेगी। सुजुकी कैरी के प्लेटफॉर्म पर तैयार हो रहे इस मॉडल का उत्पादन कम्पनी के गुडग़ांव प्लांट में किया जाना है और इसके लिये 80 हजार यूनिट्स की कैपेसिटी तैयार की गई है।
इस सैगमेंट में टाटा मोटर्स का एस लीडर है। इसके अलावा महिन्द्रा मैक्सिमो और अशोक लेलैंड दोस्त भी कामयाब ब्रांड हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here