टोयोटा लायेगी होन्डा सिटी के मुकाबले में वायोस

0
28

toyota_vios

भारत का मास सैगमेंट टोयोटा के लिये अबूझ पहेली साबित हो रहा है। मार्केट शेयर बढ़ाने के लिये खास तौर पर डिजायन किये गये मॉडल ईटिओस और लीवा तीन साल की कोशिश के बावजूद जम नहीं पा रहे हैं। डिजायन की सादगी और प्रीमियम प्राइस टोयोटा को मारुति, ह्यूंदे, फोर्ड और होन्डा के दबदबे वाले मास सैगमेंट में जमने में बड़ा रोड़ा साबित हो रहे हैं। अब कम्पनी इस सैगमेंट से हाथ खींचकर थोड़ा प्रीमियम फील वाले मॉडलों पर फोकस बढ़ाना चाहती है। खबर है कि टोयोटा भारत के सेडान सैगमेंट में ईटिओस और कोरोला के बीच की प्राइस पोजिशनिंग के साथ वायोस को पेश करने की तैयारी में है।
टोयोटा किर्लोस्कर के वाइस चेअरमैन विक्रम किर्लोस्कर ने भी अप्रेल में दिये एक बयान में कहा था कि The game plan for Toyota in India has changed. “Mass market segment is not for Toyota. I think Toyota’s game will be in bigger car segments such as Corollas and Innovas segment. We have tried hard to break the cost-barrier in the small car segment but we have just not been able to do so.”

खबर है कि वायोस को होन्डा सिटी, ह्यूंदे वरना, फोर्ड फिएस्टा और स्कोडा रैपिड वाले सी2 सैगमेंट में पेश किया जायेगा। अभी एंट्री सेडान वाले सी1 सैगमेंट में ईटिओस और प्रीमियम सेडान वाले डी1 सैगमेंट में कोरोला ऑल्टिस मौजूद हैं। लेकिन इन दोनों प्रॉडक्ट्स के बीच जो बड़ा प्राइस गैप है टोयोटा उसे वायोस के जरिये भरना चाहती है।
वायोस सेडान दरअसल यारिस हैचबैक पर आधारित है और थाईलैंड सहित कई देशों में यह काफी पॉपुलर भी है। माना जा रहा है कि कम्पनी इसे ऑल्टिस वाले 1.8 लीटर पेट्रोल और 1.4 लीटर डीजल ऑप्शन के साथ पेश करेगी। इसका मैन्यूअल के साथ ही ऑटोमेटिक विकल्प आने की भी उम्मीद जताई जा रही है। वैसे इंटरनेशनल मार्केट में कम्पनी इसे 1.5 लीटर पेट्रोल इंजन के साथ बेच रही है।
जिस सैगमेंट में वायोस को पेश किया जाना है उसमें अभी होन्डा सिटी बेस्ट सेलर है। होन्डा ने नई सिटी को पेट्रोल व डीजल इंजन के साथ जनवरी में लॉन्च किया था और शुरूआती छह महिनों में ही इसकी 46 हजार यूनिट्स बिक चुकी है। सिटी के आने से पहले इस सैगमेंट पर ह्यूंदे वरना का दबदबा था जो अपनी बेहतरीन फ्लुइडिक डिजायन और प्रीमियम पैकेजिंग के कारण बहुत सफल रही है। सिटी के आने के बाद भी हर महिने तीन-साढ़े तीन हजार वरना बिक रही हैं। हालांकि फोक्सवैगन वेंतो और स्कोडा रैपिड को भारी नुकसान झेलना पड़ा है और इनकी बिक्री में महिने-दर-महिने गिरावट आ रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here