कार में उछाल लेकिन स्कूटर की सुस्त पड़ी रफ्तार

0
12

SIAM April 2015अप्रेल की कार सेल्स ने रूरल इकोनॉमी की कमजोरी की चिंता को थोड़ा कम कर दिया है। सियाम के आंकड़ों के अनुसार कारोबारी साल के पहले महिने अप्रेल में देश में 159548 कारों की बिक्री हुई जो अप्रेल14 में हुई बिक्री के मुकाबले 18.14 फीसदी ज्यादा है। कार सेल्स की यह ग्रोथ रेट करीब 3 साल में सबसे ज्यादा है। यह लगातार छठा महिना है जब कार सेल्स बढ़ी है। लेकिन सात महिने हो गये बाइक्स की बिक्री को घटते हुये। अप्रेल में 881751 बाइक्स की बिक्री हुई जो अप्रेल14 के मुकाबले 2.77 फीसदी कम है।
अप्रेल के आंकड़ों को यदि किसी ट्रेंड की शुरूआत माना जाये तो स्कूटर भी चिंता का कारण बन सकते हैं। इस महिने देश में 344752 स्कूटर बिके जो अप्रेल14 के मुकाबले सिर्फ 5.30 फीसदी ज्यादा हैं और कई साल बाद इनकी ग्रोथ रेट इतनी सुस्त रही है। लेकिन मॉपेड की सेल्स में इजाफे से लगता है कि देश के सभी इलाकों की रूरल इकोनॉमी के हालात कमजोर नहीं है। अप्रेल में 60561 मॉपेड बिकीं जो अप्रेल14 के मुकाबले 9.88 फीसदी ज्यादा है।
टाटा एस वाले एलसीवी सैगमेंट में अब बॉटम आउट के संकेत मिल रहे हैं और मानसून के बाद इस सैगमेंट में भी ग्रोथ की उम्मीद है। अप्रेल में एलसीवी सैगमेंट में 26595 गाडिय़ां बिकीं जो अप्रेल14 में हुई 27651 यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले सिर्फ 3.82 फीसदी कम है। वहीं यदि बात ट्रक-बस सैगमेंट की करें तो यहां हालात बहुत बेहतर नजर आ रहे हैं। अप्रेल में बस की बिक्री 14.39 फीसदी बढ़त के साथ 3291 यूनिट्स रही वहीं ट्रक सेल्स 27.36 फीसदी के उछाल के साथ 15986 यूनिट्स रही।
सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर के अनुसार ट्रक-बस सैगमेंट में जो ग्रोथ नजर आ रही है वो अच्छे दिनों की तैयारी के चलते है। माइनिंग और इन्फ्रास्ट्रक्चर का काम तेज होने की उम्मीद में ट्रान्सपोर्टर नई गाडिय़ां खरीद रहे हैं हालांकि अभी मालढुलाई में कोई सुधार नहीं हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here