कार और ट्रक-बस ने बढ़ाई उम्मीद, बाइक सैगमेंट की चिंता

0
31

SIAM jan2015

इकोनॉमी के बैरोमीटर कहे जाने वाले ट्रक-बस सैगमेंट में बिक्री लगातार बढ़ रही है और इससे इकोनॉमी के हालातों में आगे के महिनों में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। जनवरी में एमएचसीवी यानि मध्यम और भारी ट्रक-बस की 21363 यूनिट्स की बिक्री हुई जो पिछले वर्ष जनवरी में हुई 15615 यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले 36.81 फीसदी का भारी उछाल है। यहां तक कि चालू वित्तीय वर्ष की अप्रेल-जनवरी की अवधि में भी इस सैगमेंट मेंं बिक्री 12.91 फीसदी बढ़त के साथ 181393 यूनिट्स रही है।

हालांकि एलसीवी सैगमेंट के हालात बेहद खराब हैं, फिर भी गिरावट की रफ्तार अब कम पडऩे लगी है ऐसे में बॉटम आउट होने में कुछ महिने और लगेंगे। एलसीवी सैगमेंट में इस महिने 31118 गाडिय़ां बिकीं जो जनवरी2014 में हुई 34226 यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले 9.08 फीसदी कम है।

जनवरी में 169149 कारें बिकीं और इस सैगमेंट में 3.14 फीसदी का सुधार दर्ज किया गया। जनवरी में एक्साइज छूट वापस होने और कम्पनियों द्वारा कीमत बढ़ाने से गाडिय़ां 5-6 फीसदी तक महंगी हो गई थीं ऐसे में मामूली ही सही लेकिन इस बढ़ोतरी को भी अहम माना जा सकता है। यूवी सैगमेंट में बिक्री 6.30 फीसदी बढक़र 48681 यूनिट्स रही वहीं वैन सैगमेंट में 6.93 फीसदी की गिरावट के साथ 12638 गाडिय़ां बिकीं।

एक ओर जहां कार और ट्रक-बस के हालात बेहतर हो रहे हैं वहीं बाइक सैगमेंट कम्पनियों की चिंता बढ़ाता नजर आ रहा है। जनवरी में बाइक्स की बिक्री 922485 के मुकाबले 5.85 फीसदी घटकर 868507 यूनिट्स रह गई और इस गिरावट से गांवों में खर्च करने लायक पैसे की कमी के संकेत मिल रहे हैं।

सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर के अनुसार ट-व्हीलर सैगमेंट में दो ट्रेंड नजर आ रहे हैं। शहरों में जहां स्कूटर का चलन बढ़ रहा है वहीं बाइक्स की बिक्री में बड़ा योगदान देने वाला रूरल मार्केट चिंता बढ़ा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here