अमेरिका में सीनेट कमेटी करेगी ताकाता एअरबैग मामले की जांच

0
45

air-bag1

लाखों डिफेक्टिव एअरबैग सप्लाई करने और इनमें हुये धमाके से 5 लोगों की मौत की बात सामने आने के कारण जापान की एअरबैग निर्माता कम्पनी ताकाता पर आपराधिक जांच शुरू हो गई है। इसके अलावा कम्पनी के सबसे बड़े कस्टमर होन्डा मोटर कम्पनी और अमेरिका की ट्रेफिक रेगुलेटर एनएचटीएसए के बड़े अधिकारियों को भी सीनेट कमेटी के सामने अपना पक्ष रखने के लिये बुलाया जा सकता है।
फैडरल ग्रांड जूरी ने ताकाता की अमेरिकी यूनिट को एअरबैग डिफेक्ट से सम्बंधित कागजात पेश करने का आदेश दिया है। दूसरी ओर अमेरिकी सीनेट की कॉमर्स कमेटी ने भी गुरुवार को कम्पनी के अधिकारियों को एअरबैग डिफेक्ट के सम्बंध में अपना पक्ष रखने के लिये बुलाया है। इसके अलावा एनएचटीएसए को भी वेहीकल रीकॉल की प्रक्रिया समझाने के लिये पेश होने का आदेश दिया गया है। होन्डा ने अपनी ओर से कहा है कि वह भी सीनेट कॉमर्स कमेटी के सामने अपना बयान देगी।
ताकाता दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी एअरबैग निर्माता कम्पनी और ज्यादा बड़ी कार कम्पनियां इसकी कस्टमर हैं। ताकाता के एअरबैग के इन्फ्लेटर में तकनीकी गड़बड़ी है जिसके चलते इसमें धमाका होता है जिससे मैटल पीस उडऩे है और ड्राइवर को चोट लग सकती है। ऐसे ही धमाकों के कारण 5 मौतों की पुष्टि हो चुकी है।
बाजार के जानकारों के ताकाता वर्ष 2000 से अब तक करीब दस करोड़ इन्फ्लेटर बना चुकी है और इनमें गड़बड़ी के कारण 1.7 करोड़ कारें रीकॉल की जा चुकी हैं जिनमें से अकेले अमेरिका में 1.10 कारें रीकॉल हुई हैं। ताकाता की सबसे बड़ी कस्टमर होन्डा मोटर कम्पनी है और उसने सबसे अधिक 80 लाख कारें रीकॉल की हैं।
पिछले दिनों मीडिया में खबर आई थी कि कम्पनी को 2004 में ही इस गड़बड़ी का पता चल गया था और इसने गुपचुप तरीके से इन्फ्लेटर की जांच भी कराई थी। लेकिन इस जांच के सभी रिकॉर्ड नष्ट कर दिये गये थे। ऐसे में माना जा रहा है कि ताकाता ने इन्फ्लेटर मॉड्यूल की गड़बड़ी को जानबूझकर छिपाया ऐसे में उस पर क्रिमिनल केस चलना चाहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here