अब फोर्ड फंसी मायलेज के मामले में

1
12

Behind the Wheel MKZफोर्ड ने छह मॉडलों का मायलेज बढ़ा-चढ़ाकर बताने की बात स्वीकार करते हुये गाड़ी मालिकों को नुकसान की भरपाई के लिये 1050 डॉलर यानि करीब 63 हजार रुपये तक का हर्जाना देने की बात कही है। वर्ष 2012 में ह्यूंदे और किया मोटर्स भी इसी तरह के मायलेज के मामले में फंस चुकी है। इसके चलते कोरियाई सहयोगी कम्पनियों को दो वर्ष में अमेरिका में बिकी एक तिहाई गाडिय़ों के मालिकों को हर्जाना देना पड़ गया था। Wall Street Journal 

पहले ह्यूंदे व किया ने और अब फोर्ड ने इस गड़बड़ी का दोष सरकार द्वारा तय मायलेज के टेस्ट को दिया है।फोर्ड ने मामला सामने आने के बाद सीमेक्स हाइब्रिड का मायलेज घटाकर 40 मील प्रति गैलन कर दिया है जबकि पहले कम्पनी 43 मील प्रति गैलन के मायलेज का दावा कर रही थी। 

दरअसल अमेरिका में पिछले दो-तीन साल से कम्पनियों में मायलेज की जंग सी छिड़ी है और कम्पनियों की मार्केटिंग का बड़ा फोकस भी फ्यूल एफीशियेंसी पर है। ह्यूंदे के जिन मॉडलों पर मायलेज को लेकर सवाल उठे थे उनमें से कुछ के लॉन्च केम्पेन में कम्पनी ने पूरे अमेरिका में बड़े-बड़े होर्डिंग लगवाये थे जिनमें मायलेज को बढ़ा-चढ़ाकर बताया गया था।
फोर्ड ने कहा है कि वह करीब दो लाख ग्राहकों को मॉडल और परचेज़ स्कीम के आधार पर 125 से 1050 डॉलर तक का मुआवजा देगी।
वर्ष 2013 और 2014 के लिंकन एमकेजेड हाइब्रिड सेडान मॉडल के लिये कम्पनी ने 45 मील प्रति गैलन के मायलेज का दावा किया था। अब इस मॉडल का मायलेज घटाकर शहर में 38 और हाइवे पर 37 मील प्रति गैलन बताया जा रहा है। इस मॉडल के मालिकों को कम्पनी कम मायलेज मिलने के चलते हुये नुकसान की भरपाई के लिये 1050 डॉलर का हर्जाना देगी। (1 गैलन=4.546 लीटर)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here