अगस्त में कुछ मस्त कुछ पस्त

0
17

july

देर से ही सही लेकिन अगस्त में देश भर में खूब झमाझम हुई। जुलाई के घाटे की एक हद तक भरपाई हो गई। इसका असर कार कम्पनियों के बिक्री आंकड़ों पर भी साफ नजर आ रहा है। अगस्त में मारुति, ह्यूंदे, होन्डा और निसान को फायदा हुआ। वहीं टाटा, महिन्द्रा, जीएम, टोयोटा और फोर्ड को घरेलू बिक्री के मोर्चे पर घाटा उठाना पड़ा। बिक्री आंकड़े भले ही मिले जुले हों लेकिन ग्राहक अब बाजार में उतर रहा है। जुलाई-अगस्त में चार नये मॉडल आने का भी फायदा मिला है।
कार बाजार के हालातों के बैरोमीटर मारुति सुजुकी की अगस्त में घरेलू बिक्री 29.3 फीसदी के भारी उछाल के साथ 98304 यूनिट्स तक पहुंच गई। पिछले साल अगस्त में कम्पनी ने 76018 गाडिय़ां ही बेची थीं। अगस्त लगातार चौथा महिना है जब मारुति को बिक्री के मोर्चे पर फायदा हुआ है। यदि बंद हो चुकी एसएक्स4 को छोड़ दिया जाये तो सभी सैगमेंटों में मारुति की बिक्री बढ़ी है।
ह्यूंदे ने अगस्त में इलीट आई-20 का कामयाब लॉन्च किया है। शुरुआती बीस दिनों में ही इसके लिये कम्पनी को 12 हजार से ज्यादा बुकिंग मिल चुकी हैं। घरेलू बाजार में कम्पनी की बिक्री 28311 यूनिट्स के मुकाबले 19.2 फीसदी की बढ़त के साथ 33750 यूनिट्स रही। हालांकि यूरोप को एक्सपोर्ट बंद करने का असर कम्पनी के निर्यात आंकड़े के साथ ही कुल बिक्री पर भी नजर आ रहा है।
अगस्त में यदि कोई शो स्टॉपर है तो वो है होन्डा कार। लेकिन पिछले वर्ष अप्रेल में जब से अमेज़ आई है होन्डा लगातार ग्रोथ पाथ पर बढ़ रही है। जुलाई के आखिर में आई मोबिलियो की अगस्त में 5530 यूनिट्स डिस्पैच हुई हैं। सिटी का प्रॉडक्शन ग्रेटर नोइडा से राजस्थान के टपूकड़ा संयंत्र में शिफ्ट करने के कारण अगस्त में सिटी की एक भी यूनिट नहीं बनी। इसके बावजूद पिछले महिने होन्डा ने डॉमेस्टिक मार्केट में 16758 गाडिय़ां बेची हैं जो पिछले वर्ष अगस्त में हुई 8913 यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले 88 फीसदी का उछाल है।
डेटसन गो आने का निसान को कोई फायदा मिलता नजर नहीं आ रहा है। अगस्त में कम्पनी ने 3999 गाडिय़ां बेचीं जो पिछले वर्ष अगस्त में हुई 2494 यूनिट्स की बिक्री के मुकाबले 60 फीसदी ज्यादा है।
वहीं तीन महिने पहले ईटिओस क्रॉस और नई कोरोला ऑल्टिस लॉन्च करने वाली टोयोटा किर्लोस्कर की घरेलू बिक्री 6.5 फीसदी घटकर 11215 यूनिट्स रही।
पोर्टफोलियो पुराना पडऩे का खामियाजा महिन्द्रा को उठाना पड़ रहा है इसके अलावा मास सैगमेंट में वॉल्यूम मॉडल की कमी भी कम्पनी को अब खलने लगी है। अगस्त में कम्पनी के पैसेंजर मॉडलों की घरेलू बिक्री 15821 के मुकाबले 11 फीसदी घटकर 14140 यूनिट्स रही।
फोर्ड इंडिया का भी पूरा कारोबार अब ईकोस्पोर्ट के इर्द गिर्द सिमट चुका है। फीगो तेजी से अपनी चमक खो रही है, प्राइस में भारी कटौती के बावजूद क्लासिक की बिक्री लगातार सुस्त पड़ रही है। अगस्त में कम्पनी ने घरेलू बाजार में 6801 गाडिय़ां बेचीं जबकि पिछले वर्ष अगस्त में यह आंकड़ा करीब 8 हजार यूनिट्स का था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here